Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

BIG BREAKING : भारत लौटे विंग कमांडर अभिनंदन, देश में खुशी की लहर

यह बदले हुए भारत की ही बानगी है कि पाकिस्तान ने तीन दिन के भीतर भारतीय वायुसेना के जांबाज पायलट अभिनंदन वर्थमान को ससम्मान भारत वापस लौटा दिया है।

BIG BREAKING : भारत लौटे विंग कमांडर अभिनंदन, देश में खुशी की लहर

यह बदले हुए भारत की ही बानगी है कि पाकिस्तान ने तीन दिन के भीतर भारतीय वायुसेना के जांबाज पायलट अभिनंदन वर्थमान को ससम्मान भारत वापस लौटा दिया है। करगिल युद्ध के समय भी हमारा एक पायलट नचिकेता उसकी गिरफ्त में आ गया था, जिसे आठ दिन बाद भारत को सौंपा गया था। अभिनंदन को 27 फरवरी को उस समय पाक रेंजर ने हिरासत में ले लिया था, जब वह पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों का पीछा करता हुआ पाक सीमा के भीतर चला गया और उसने उसके एफ-16 विमान को उड़ा दिया। लगभग उसी समय उसका मिग-21 भी क्रैश हो गया और विंग कमांडर वर्थमान को खुद को इजैक्ट करना पड़ा। वह जैसे ही पैराशूट के सहारे पीओके में जमीन पर गिरे, वैसे ही उन्हें हिरासत में ले लिया गया। उसी समय से पूरा देश अभिनंदन की सुरक्षित वापसी के लिए चिंतित था। जगह-जगह प्रार्थना की जा रही थीं। लाखों लोगों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी आग्रह किया कि वह नचिकेता की तरह अभिनंदन की वापसी भी सुनिश्चित कराएं।

अभिनंदन की वापसी प्रक्रिया

जिनेवा संधि के अनुसार युद्धबंदियों को दुश्मन देश को वापस करना ही होता है। इसलिए इसे लेकर किसी को चिंता नहीं थी कि विंग कमांडर का क्या होगा। चिंता इसी को लेकर थी कि कहीं लंबे समय तक उन्हें वहां रोक कर तो नहीं रखा जाएगा। आमतौर पर जैसे ही तनाव खत्म होता है, इस तरह के पकड़े गए युद्धबंदियों को वापस भेज दिया जाता है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए इसका ऐलान किया कि उनकी सरकार पहली मार्च यानी शुक्रवार को अभिनंदन को भारत को सौंप देगा। यह माना जा रहा है कि भारत ने कूटनीतिक दरवाजे खोलकर यह सुनिश्चित किया कि अभिनंदन की रिहाई में ज्यादा वक्त नहीं लगे।

भारत की पाक को चेतावनी

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने प्रेस से बातचीत करते हुए पाक से कहा था कि वह हिरासत में लिए गए पायलट के साथ सही व्यवहार करे और उसे सुरक्षित भारत को सौंपे। जिस तरह के चित्र और वीडियो सोशल मीडिया पर जारी हुए थे, उससे भारत का चिंतित होना स्वाभाविक था। कुछ स्थानीय लोगों ने विंग कमांडर के साथ मारपीट की थी।

उनके चेहरे पर खून बह रहा था। हालांकि इस सबसे बिना विचलित हुए अभिनंदन ने पूछताछ के समय बहुत आत्मविश्वास से जवाब देते हुए कोई भी ऐसी जानकारी पाकिस्तानी अफसरों को देने से इंकार कर दिया, जो उनके लिए सामरिक महत्व की हो सकती थी। अभिनंदन वर्थमान के पिता और पत्नी भी वायुसेना में काम कर चुके हैं।

अभिनंदन के पिता ने कहा बेटे की बहादुरी पर फक्र है

उनके पिता ने कहा था कि वह कतई चिंतित नहीं है। उन्हें अपने बेटे की बहादुरी पर फक्र है लेकिन इस दौरान खासकर सोशल मीडिया पर लोगों ने गैर जिम्मेदारी का परिचय देते हुए उनके वो वीडियो तक जारी कर दिए, जिनमें उनके साथ कुछ लोगों के द्वारा अशिष्टता की जा रही थी। भारत ने इस पर पाक उप उच्चायुक्त को तलब कर विरोध भी दर्ज कराया कि यह सरासर वियना संधि का उल्लंघन है। किसी भी युद्धबंदी के चित्र अथवा वीडियो सार्वजनिक नहीं किए जा सकते। और उसके साथ इस तरह का व्यवहार भी नहीं किया जा सकता।

पाक का नापाक रवैया

अफसोस की बात यही है कि इस तरह की घटनाएं घटती हैं तो लोग सोशल मीडिया पर गैर जिम्मेदाराना व्यवहार शुरू करते हुए देश के प्रधानमंत्री तक पर जुबानी प्रहार पर उतर आते हैं जबकि एक दिन पहले ही सब एक स्वर से मोदी की इसके लिए प्रशंसा कर रहे थे कि उन्होंने वायुसेना को पाकिस्तान में घुसकर आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने की इजाजत देकर बहुत बड़ा साहसिक फैसला लिया है। बहरहाल, राहत की बात यही है कि पाक हिरासत में चार दिन बिताने के बाद शुक्रवार को भारतीय जांबाज पायलट सुरक्षित और ससम्मान स्वदेश लौट रहा है।

Loading...
Share it
Top