Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Bharat Bandh: इन पांच राज्यों में दिखा भारत बंद का सबसे ज्यादा असर

महाराष्ट्र कांग्रेस ने सोमवार को पेट्रोलियम पदार्थों की आसमान छूती कीमतों के खिलाफ बुलाए गए भारत बंद के दौरान राज्य के विभिन्न इलाकों में प्रदर्शन किया।

Bharat Bandh: इन पांच राज्यों में दिखा भारत बंद का सबसे ज्यादा असर
X

पेट्रोल एवं डीजल की बढ़ती कीमत के विरोध में सोमवार को कई विपक्षी दलों द्वारा बुलाए गए ‘भारत बंद' का सभी राज्य में मिला-जुला असर रहा, लेकिन केरल महाराष्ट्र समेत पांच राज्यों में सबसे ज्यादा असर देखने को मिला।

केरल में भारत बंद

तिरूवनंतपुरम. पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमतों के विरोध में सत्तारूढ़ माकपा की अगुवाई वाली एलडीएफ और कांग्रेस की अगुवाई वाली विपक्षी यूडीएफ के दिन भर के बंद के कारण सोमवार को केरल में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ। सुबह छह बजे से शुरू हुये हड़ताल के कारण पूरे राज्य में निजी और सार्वजनिक बसें तथा ऑटोरिक्शा नहीं चली । अधिकांश जिलों में दुकान और व्यापारिक प्रतिष्ठानें बंद रहीं।

आज सुबह हालांकि, कुछ निजी वाहन सड़कों पर चलती नजर आयी लेकिन बाद में इनकी संख्या कम हो गई। दूसरे स्थानो से अथवा दूर दराज के इलाकों से ट्रेन से यहां पहुंचने वाले बड़ी तादाद में लोग थमपनूर रेलवे स्टेशन पर फंस गये हैं । इनमें महिलायें और बुजुर्ग भी शामिल हैं । दूसरी तरफ शहर का व्यस्ततम शहर ईस्ट फोर्ट बस स्टैंड हड़ताल के कारण सुनसान था। पुलिस ने बताया कि अब तक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है।

महाराष्ट्र में भारत बंद का असर

भारत बंद का पूरे देश में असर दिख रहा। महाराष्ट्र कांग्रेस ने सोमवार को पेट्रोलियम पदार्थों की आसमान छूती कीमतों के खिलाफ बुलाए गए भारत बंद के दौरान राज्य के विभिन्न इलाकों में प्रदर्शन किया।

भारत बंद को प्रदेश में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), राज ठाकरे की अगुवाई वाली महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे), समाजवादी पार्टी, पीजेंट एंड वर्कर्स पार्टी और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने भी समर्थन दिया है।

मुंबई में महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख अशोक चव्हाण के नेतृत्व में प्रदर्शन किया गया। कांग्रेस नेता माणिकराव ठाकरे, नसीम खान और अन्य नेताओं ने चव्हाण के साथ प्रदर्शन किया।

चव्हाण ने कहा कि मोदी और फडणवीस सरकार (पेट्रोलियम उत्पादों) पर उत्पाद शुल्क लगाकर लूट रही है। यह अनुचित है। यह लोगों की जिदंगियों को तबाह कर रहा है।

इसलिए हम यह प्रदर्शन कर रहे हैं। हम पेट्रोलियम पदार्थ की कीमतों में इजाफे को वापस लेने की मांग करते हैं।' कांग्रेस नेताओं ने करीब 15 मिनट तक प्रदर्शन किया।

इसके बाद सुरक्षाकर्मी उन्हें उपनगर अंधेरी के डीएन नगर थाने ले गए। पुणे में, मनसे के संदिग्ध कार्यकर्ताओं ने पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्य में वृद्धि के खिलाफ बसों में कथित रूप से तोड़फोड़ की। इसके अलावा, महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में भी प्रदर्शन हुए।

कर्नाटक में भारत बंद से जनजीवन प्रभावित

भारत बंद से कर्नाटक में जनजीवन प्रभावित हुआ। प्रदेश में इस बंद को सत्तारूढ़ जद एस का भी समर्थन है। सरकारी बसें, निजी टैक्सी और अधिकांश ऑटोरिक्शाओं के नहीं चलने के कारण सुबह में शहर की सड़कें सुनसान रहीं। व्यापारिक प्रतिष्ठान, दुकान, मॉल, कुछ निजी व्यवसायिक स्थल बंद रहे।

कांग्रेस, जद (एस), वाम दल और अन्य कई संगठनों के सैकड़ों कार्यकर्ता बंद को सफल बनाने के लिए सड़कों पर उतरे। वे पेट्रोल और डीजल कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। राज्य के कई अन्य हिस्सों में बंद सफल रहा। इसमें तुमाकुरु, रामनगर, मंड्या, चन्नपटना, हासन, मंगलुरु, कामराजनगर, मैसूर, हुबली, बीदर और कोलार शामिल हैं।

दिल्ली में भारत बंद मगर स्कूल और कॉलेज खुले

भारत बंद' के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी में कार्यालय, स्कूल और कॉलेज अपने निर्धारित समय पर खुले। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि रिजर्व पुलिस बलों के साथ राष्ट्रीय राजधानी में भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है।

मोटरसाइकिलों पर गश्त करने वालों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। अधिकारी ने बताया कि पूरी दिल्ली में पेट्रोल पंपों पुलिस बलों को तैनात किया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोई अप्रिय घटना नहीं हो।

प्रदर्शन के कारण दरियागंज और रामलीला मैदान के आसपास यातायात प्रभावित हुआ है और कैब कंपनियों के किराये में बढ़ोतरी करने के कारण यात्रियों को परेशानी हुई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में विपक्षी दलों ने पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी के खिलाफ राजघाट से यहां रामलीला मैदान तक एक मार्च निकाला।

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सांसद संजय सिंह तथा राजद के राज्यसभा सांसद मनोज झा भी प्रदर्शन में मौजूद थे। इस बीच, आप नेता पेट्रोल, डीजल के दामों में बढ़ोतरी के खिलाफ जंतर मंतर पर एक प्रदर्शन किया।

पार्टी के वरिष्ठ नेता दिलीप पांडे ने कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार के खिलाफ असंतोष बढ़ रहा है और पेट्रोल, डीजल के दामों में बढ़ोतरी, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी जैसे मुद्दों से प्रभावित आम आदमी की दुर्दशा पर विपक्ष चुप नहीं रह सकता है।

भारत बंद के कारण दिल्ली सचिवालय में कार्य प्रभावित नहीं हुआ। स्कूल और कॉलेज में कक्षाएं निर्धारित सयम पर हुईं। हालांकि छात्रों को स्कूल पहुंचने में यातायात के कारण परेशानी हुई। यातायात विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि डीटीसी बस और क्लस्टर बस सामान्य रूप से चल रही हैं और अब तक व्यवधान की कोई खबर नहीं मिली है।

पश्चिम बंगाल में में भारत बंद का असर व्यापक

तृणमूल कांग्रेस ने रुपये के मूल्य में गिरावट समेत मुद्दे को तो समर्थन दिया है लेकिन वह बंद के खिलाफ है। कांग्रेस ने सुबह नौ बजे से छह घंटे का बंद बुलाया है, जबकि माकपा नीत वाम मोर्चे ने 12 घंटे का बंद बुलाया है जो सुबह छह बजे से शुरू हुआ है।

तकरीबन सभी स्कूल और कॉलेज खुले हुए हैं और परीक्षाएं भी चल रही हैं जबकि सुबह में दफ्तर जाने वाले लोग भी कार्यालय जाते दिखे। कोलकाता यातायात पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बंद का असर जन जीवन पर नहीं पड़े, इसके लिए सभी उपाय किए गए हैं। बंद के समर्थकों ने जादवपुर स्टेशन पर रेल की पटरियों पर प्रदर्शन किया लेकिन यात्रियों के विरोध के बाद वह वहां से हट गए।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story