Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल्ली: चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से मिलने पहुंची बार काउंसिल की टीम

4 जजों के विवाद का हल निकालने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया का एक प्रतिनिधि मंडल जस्टिस चेलमेश्वर के घर पहुंचे चुका है।

दिल्ली: चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से मिलने पहुंची बार काउंसिल की टीम

सुप्रीम कोर्ट विवाद को आज तीसरा दिन है। 4 जजों के विवाद का हल निकालने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया का एक प्रतिनिधि मंडल जिसमें चेयरमैन मनन मिश्रा भी शामिल हैं। जस्टिस चेलमेश्वर के घर पहुंचे हैं।

बता दें कि जस्टिस चेलमेश्वर से मिलने के बाद एक टीम ने बताया कि वे सीजेआई और अन्य तीन जजों से मिलने के बाद ही कोई बयान देंगे।
फिर जस्टिस चेलमेश्वर से मुलाकात के बाद बार काउंसिल के सदस्य सुप्रीम कोर्ट के जज अरुण मिश्रा से भी मुलाकात करेंगे। इसके बाद शाम साढ़े छह बजे प्रतिनिधि मंडल जस्टिस रंजन गोई और जस्टिस कुरियन जोसेफ से मुलाकात करेगा।
जानकारी के लिए बता दें कि बीती 12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के चार जजों जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस कुरियन जोसेफ और जस्टिस मदन बी लोकुर ने मीडिया के सामने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सीजेआई के कार्य करने के तरीके पर सवाल उठाया था।

बार एसोसिएशन भी करेगा मुलाकात

प्रेस कॉन्फेंस कर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनन मिश्र ने बताया कि इस मामले को जल्द सुलझाने के लिए हमने 7 सदस्यों की कमेटी का गठन किया है।

ये कहा था प्रेस कॉन्फ्रेंस में

पहली बार सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने मीडिया को संबोधित किया। चीफ जस्टिस के बाद दूसरे सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस जे. चेलमेश्वर के घर पर ये प्रेस वार्ता हुई। प्रेस वार्ता के दौरान जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि कभी-कभी होता है कि देश के सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था भी बदलती है।
उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते की देश की न्यायपालिका की निष्ठा पर सवाल उठे और हमपर 20 साल बाद कोई आरोप लगे हैं। उन्होंने कहा कि हमने अनियमितताओं पर चीफ जस्टिस से बाक की लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी।
उन्होंने यह भी कहा कि 4 महीने पहले हमने चीफ जस्टिस को खत लिखा था। इस खत में हमने प्रशासन के बारे में कुछ मुद्दे उठाए थे। बता दें कि ये खत 7 पेजों का है जिसमें अनियमितताओं को लिखा गया है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार की शिकायत चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने नहीं सुनी।
Share it
Top