Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारत को भांग जि‍तना प्यार करता था बाबर!

दौलत और साम्राज्‍य बनाने के नशे के अलावा उसका सबसे प्रि‍य नशा भांग था।

भारत को भांग जि‍तना प्यार करता था बाबर!

भारत में मुगल साम्राज्‍य की स्‍थापना करने वाले बाबर में अभी कई ऐसे रहस्‍य छुपे हुए हैं जि‍न्‍हें आमतौर पर लोग नहीं जानते। जैसे बाबर के बारे में कम लोग ही जानते हैं कि वह बेतरतीब नशे का आदी था। दौलत और साम्राज्‍य बनाने के नशे के अलावा उसका सबसे प्रि‍य नशा भांग था। कि‍सी भी युद्ध के पहले बाबर खुद अपनी सेना सहि‍त भांग खाता था। जितना प्रेम उसे अपने साम्राज्य से उतना ही प्रेम माजून (भांग) के स्वाद से भी था।

ये भी पढें- हार्दिक पटेल पर देशद्रोह का केस दर्ज, तिरंगे का भी किया अपमान

मुगल सम्राज्य के पहले बादशाह बाबर ने अपनी आत्मकथा 'बाबरनामा' में अपने अपने बचपन से लेकर भारत आने और उसके इस देश का सम्राट बनने और अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का वर्णन किया है। बाबर जब भारतीय उपमहाद्वीप में आया है तो उसने यहां की माजून (भांग) चख ली।

ये भी पढें-मैगी लवर्स के लिए बड़ी खबर, गुजरात और कर्नाटक में हटा बैन

किसी शाहमंसूर नाम के यूसुफजई पठान ने बाबर को माजून (भांग) वाली मिठाई खाने को दी जिसे कमाली कहा जाता था। यह बाबर के भारतीय उपमहाद्वीप में शुरुआती दिन थे।बाबर ने इसको खाने के बाद अपनी किताब बाबरनामा में लिखा है कि
'इसमें मजा कमाल का था। पर था बड़ा नशीला।'
इसके बाद बाबर को भांग की लत लग गई।
ऐसा कोई मौका नहीं होता था जब बाबर इसके नशे का आनंद ना लेता रहा हो। चाहे वो नदी तैर रहे हों हो पहाड़ी पर चढ रहे हों या आराम कर कर रहा हो। चाहे मौसम का मजा लेना हो।बाबर ने एक अन्य जगह लिखा है कि एक पहाडी़ पर साफ-सुथरी हवादार पहाड़ी पर भी उन्हें माजून (भांग) खाने का खयाल आया खाने के बाद खूब आराम फरमाया।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top