Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एटीएम कैश क्राइसिस: देश फिर से ‘नोटबंदी के आतंक'' की गिरफ्त में, जानिए क्या है पूरा माजरा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कई राज्यों में नकदी की कथित कमी से देश फिर से ‘नोटबंदी के आतंक'' की गिरफ्त में है। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों में मुद्रा मांग में असामान्य तेजी आई है।

एटीएम कैश क्राइसिस: देश फिर से ‘नोटबंदी के आतंक

देश में आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, मध्यप्रदेश, बिहार और चुनाव वाले कर्नाटक राज्य के कई हिस्सों में नकदी की तंगी होने की रिपोर्ट मिली है और एटीएम खाली पड़े हैं। हालांकि, सरकार ने इसे फौरी कमी बताया है और पिछले तीन माह के दौरान नकदी की मांग में अचानक आई तेजी को इसकी वजह बताया। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस मुद्दे पर कहा कि कुछ राज्यों में नकदी की जो अस्थाई तौर पर कमी सामने आई है, उसे दूर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समय अर्थव्यवस्था में उपयुक्त से भी ज्यादा नकदी का प्रसार है।

इसे भी पढ़ें: एटीएम में कैश न होने की वजह से बने नोटबंदी के हालात, रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार उठाएगी सख्त कदम

जेटली गुर्दे की बीमारी के कारण दो अप्रैल से कार्यालय नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में मुद्रा की स्थिति उन्होंने समीक्षा की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, कुल मिलाकर तंत्र में सामान्य से भी ज्यादा मुद्रा प्रसार में हैं और बैंकों के पास भी इसकी कमी नहीं है। कुछ क्षेत्रों में अचानक और असाधरण तरीके से (मांग में हुई वृद्धि) के कारण जो तंगी की स्थिति बनी है उसका निदान किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: ATM कैश संकट: जानें क्यों हो रही कैश की दिक्कत, ये है असली वजह

वित्त मंत्राालय के यहां जारी वक्तव्य में देश के कुछ हिस्सों में नकदी की तंगी होने और कुछ एटीएम में नकदी उपलब्ध नहीं होने की रिपोर्टों की पुष्टि की गई है। हालांकि इसमें यह भी कहा गया है कि पिछले तीन माह के दौरान देश में मुद्रा की मांग में असामान्य तरीके से मुद्रा की मांग बढ़ी है। इसमें कहा गया है कि अप्रैल माह के 13 दिन में मुद्रा आपूर्ति में 45,000 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई है।

इन राज्यों में संकट

आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों में मुद्रा मांग में असामान्य तेजी आई है। वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि सरकार ने समस्या के निदान के लिये एक समिति गठित की है। अगले दो से तीन दिन में इसे हल कर लिया जाएगा।

राज्यवार बनाई समिति

सरकार ने राज्यवार समिति बनाई है। एक राज्य से दूसरे राज्य में मुद्रा स्थानांतरित करने के लिये रिजर्व बैंक ने समिति बनाई है। मुद्रा स्थानांतरित करने के लिए रिजर्व बैंक की अनुमति लेनी होती है।

वित्त मंत्रालय की सफाई

रिजर्व बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक देश में मुद्रा प्रसार इस समय नोटबंदी के समय से पहले के स्तर 17 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है। वित्त मंत्रालय ने कहा कि मुद्रा की कोई तंगी नहीं है। इसका उपयुक्त स्टॉक उपलब्ध है। पांच सौ, दो सौ और सौ रुपये के नोट की कोई तंगी नहीं है।

नकदी की कमी नहीं

एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि यह कहना सही नहीं होगा कि देश में नकदी की कमी है। कृषि उपज की खरीद के चलते इसमें कुछ असंतुलन की स्थिति हो सकती है, क्योंकि अनाज खरीद शुरू होने पर नकदी की मांग बढ़ जाती है। इस समय पंजाब, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में खरीद मौसम के चलते नकदी की मांग बढ़ी है।

70 हजार करोड़ नोट छपेंगे

आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव एससी गर्ग ने कहा, हमने करंसी प्रिंटिंग का काम भी बढ़ा दिया है। 15 दिन पहले तक हम 500 करोड़ रुपए मूल्य के 500 के नोट प्रिंट कर रहे थे। अब जल्द ही हम 2500 करोड़ रुपए मूल्य के 500 के नोट एक दिन में प्रिंट करेंगे। इस हिसाब से हम एक महीने में 500 के 70 से 75 हजार करोड़ रुपए के नोट छापेंगे।

राहुल का तंज, नोटबंदी का आतंक

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कई राज्यों में नकदी की कथित कमी से देश फिर से ‘नोटबंदी के आतंक' की गिरफ्त में है। उन्होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर नोटबंदी के अपने फैसले के साथ देश की बैंकिंग प्रणाली को तहस नहस करने का आरोप लगाया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top