Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अटल जी ने क्यों कहा था कि हनुमान जी वानर नहीं, इंसान थे

अटल जी ने यह भी बताया है कि आखिर भगवान राम ने रावण के साथ लड़ाई में भरत की मदद क्यों नहीं मांगी। उन्होंने कहा कि संदेश भेजकर अयोध्या से सेना मंगा सकते थे। लेकिन वह मर्यादा पुरुषोत्तम थे।

भरत तो उनकी पादुकाएं रखकर राज चला रहे थे। उनको संदेश भेजते पत्नी चली गई है, फौज लेकर चले आना तब राम क्या मुंह दिखाते। अयोध्या वालों पर क्या प्रभाव पड़ता।

उन्होंने अपने गुणों से जनजातियों के संगठन से फिर से खोई हुई सीता को प्राप्त करने का निश्चय किया। बाली के वध के समय बाली ने राम से पूछा कि आप सुग्रीव के पास क्यों गए मेरे पास आते मैं रावण को हराकार मां सीता को ले आता।

मगर राम जानते थे, याची बनकर बाली के दरबार में जाते तो राम की स्थिति क्या होती? प्रतिष्ठा कहां जाती? और अगर बाली मां सीता को छुड़ाकर ले आता तो क्या भगवान राम की तारीफ होती। जो हनुमान पहाड़ कंधे पर ला सकते हैं तो क्या वह सीता को नहीं ला सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। क्योंकि राम ने कहा था कि सीता का संदेश लाना न कि सीता को लेकर आना।

Share it
Top