Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अटल बिहारी का भाषण सुन कायल हो गए थे नेहरू, वाजपेयी ने इंदिरा गांधी को कही थी ये बात

अटल बिहारी वाजपेयी राजनीति के एक ऐसे शख्श हैं जिनको विपक्ष भी अपना आदर्श मानता है। कांग्रेस के साथ अटल की सरकार के संबंध बेहतर रहे हैं। और ये आज से नहीं बल्कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से रहा है।

अटल बिहारी का भाषण सुन कायल हो गए थे नेहरू, वाजपेयी ने इंदिरा गांधी को कही थी ये बात

अटल बिहारी वाजपेयी राजनीति के एक ऐसे शख्श हैं जिनको विपक्ष भी अपना आदर्श मानता है। कांग्रेस के साथ अटल की सरकार के संबंध बेहतर रहे हैं। और ये आज से नहीं बल्कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और देश की पहली महिला पीएम इंदिरा गांधी के समय से रहा।

भारतीय जनता पार्टी के सबसे लोकप्रिय और दिग्गज नेताओं में अटल बिहारी वाजपेयी की जगह कोई नहीं ले सकता है। इनके भाषण का अंदाज, बात करने का तेंवर और मधुर भाषा हर कोई को इनकी ओर खींच लेता।

इसे भी पढ़ें- अटल बिहारी के अनसुने किस्सेः कम्युनिस्ट, बिहारी, प्रेम संबंध से जुड़े तार

यही अंदाज रहा कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू संसद में वाजपेयी का भाषण का सुनकर इतने प्रभावित हुए कि उनके प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी कर दी। और ये बात सच साबित हुई।

दरअसल, अटल बिहारी वाजपेयी वर्ष 1957 के लोकसभा चुनावों में पहली बार उत्तर प्रदेश की बलरामपुर लोकसभा सीट से जनसंघ के प्रत्याशी के रूप में जीतकर लोकसभा पहुंचे। अटल जी 1957 से 1977 तक लगातार जनसंघ की ओर से संसदीय दल के नेता रहे।

अटल बिहारी विपक्ष के कामों की तारीफ करने से भी पीछे नहीं हटते थे। 1971 के दौरान भारत-पाकिस्तान युद्ध में विजयश्री के साथ बांग्लादेश को आजाद करा कर पाक के 93 हजार सैनिकों को घुटना टेंकने को विवश किया।

इसे भी पढ़ें- पिछले 24 घंटों से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत गंभीरः AIIMS

इस विजय के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी जी को अटल बिहारी वाजपेयी ने संसद में दुर्गा की उपमा से सम्मानित किया था। तो संसद तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा था।

लेकिन 1975 में इंदिरा गाँधी द्वारा आपातकाल लगाने अटल बिहारी वाजपेयी ने खुलकर विरोध किया था। आपातकाल की वजह से इंदिरा गाँधी को 1977 के लोकसभा चुनावों में करारी हार का सामना करना पड़ा।

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी भी अटल बिहारी के कार्यकाल की कायल रही हैं। वे हमेशा अटल सरकार की सराहना करती हैं। हाल ही में उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्री रहने के दौरान संसद ने ज्यादा सकारात्मक तरीक से काम किया था।

इसके साथ ही देश में पहली बार गैर कांग्रेसी सरकार जनता पार्टी की सरकार बनी। मोरारजी सरकार में अटल बिहारी वाजपेयी को विदेश मंत्री जैसा महत्वपूर्ण विभाग दिया गया। अटल बिहारी ने विदेश मंत्री रहने के दौरान अहम काम किए।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top