Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कांग्रेस का वनवास खत्म, भाजपा तय कर रही आगे की रणनीति

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की मतगणना के बीच आ रहे जीते-हारे प्रत्याशियों के साथ पल-पल बदल रहे रूझान भाजपा के लिए बुरी खबर लेकर आए हैं।

कांग्रेस का वनवास खत्म, भाजपा तय कर रही आगे की रणनीति

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की मतगणना (Assemble Election Result 2018) के बीच आ रहे जीते-हारे प्रत्याशियों के साथ पल-पल बदल रहे रूझान भाजपा के लिए बुरी खबर लेकर आए हैं। साल 2014 से दौड़ रहा भाजपा के जीत का अश्वमेघ घोड़ा अब रुकता नजर आ रहा है। क्योंकि जहां भाजपा के हाथ चार राज्य फिसलते हुए नजर आ रहे हैं तो वहीं तेलंगाना में टीआरएस ने बढ़त हासिल कर ली।

हिंदी भाषी बड़े राज्यों में झटका

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार का जाना तय माना जा रहा है। 15 वर्षों से मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की सत्ता पर काबिज भाजपा को सत्ता से हाथ गंवाना पड़ गया तो वहीं राजस्थान में हर पांच साल में सत्ता परिवर्तन का ट्रेंड जारी होता दिख रहा है।

तेलंगाना-मिजोरम में नहीं चला दांव

तेलंगाना और मिजोरम की बात करें तो भाजपा ने अपनी राजनीतिक जमीन न होने के बावजूद तगड़ा जोर लगाया था। नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रैटिक अलायंस (एनइडीए) के संयोजक के तौर पर असम सरकार में मंत्री हेमंत विश्व शर्मा ने जोड़तोड़ की पूरी कोशिश की थी, तो वहीं भाजपा की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने कांग्रेस मुक्त पूर्वोत्तर का सपना साकार करने के लिए पूरा जोर लगाया था। हालांकि पूर्वोत्तर में कांग्रेस के हाथ से एकमात्र राज्य निकल गया लेकिन यहां क्षेत्रीय दल मिजो नेशनल फ्रंट की सरकार बनते दिख रही है।

मोदी-शाह ने की थीं ताबड़तोड़ रैली व सभाएं

इन पांच राज्यों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 32 जनसभाएं की थीं जिसमें सबसे ज्यादा राजस्थान में 12, मध्यप्रदेश में 10, छत्तीसगढ़ में 4, तेलंगाना में 5 और मिजोरम में एक रैली की थी। वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पांच राज्यों के तूफानी प्रचार अभियान में 65 जनसभाएं, 13 रोड शो और 162 संवाद कार्यक्रम किए। जिसमें छत्तीसगढ़ में 14 दिन, मध्य प्रदेश में 18 दिन, तेलंगाना में 10 दिन, राजस्थान में 19 दिन, मिजोरम में 2 दिन रहे।

Share it
Top