Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पारसी दादा-ईसाई मां, राहुल गांधी का गोत्र क्या है?

कांग्रेस के रास्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की धर्म और जाति को लेकर फिर चर्चा में सामने आ रहे है। राहुल गांधी ने पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर में पूजा के दौरान अपनी जाति कौल ब्राह्मण और गोत्र दत्तात्रेय बताया।

पारसी दादा-ईसाई मां, राहुल गांधी का गोत्र क्या है?

कांग्रेस के रास्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की धर्म और जाति को लेकर फिर चर्चा में सामने आ रहे है। राहुल गांधी ने पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर में पूजा के दौरान अपनी जाति कौल ब्राह्मण और गोत्र दत्तात्रेय बताया।

भाजपा ने इससे पहले भी राहुल गांधी खुद के जनेऊधारी ब्राह्मण और शिवभक्त होने पर उनकी जाति और गोत्र पर सवाल उठाए थे। भाजपा राहुल को उसकी जाति और गोत्र पर सवाल खड़े करती रही है।

गौरतलब है कि इंदिरा गांधी के पिता जी जवाहरलाल नेहरू जी कौल ब्राह्मण थे। इंदिरा गांधी की शादी फिरोज जहांगीर से हुए थी। जो राहुल गांधी की दादी थी। फिरोज पारसी थे। फिरोज जहांगीर का जन्म मुंबई के एक पारसी परिवार में हुआ था।

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी ने 26/11 हमले की बरसी पर कांग्रेस से पूछे ये 10 सवाल

यह परिवार गुजरात से व्यापार करने के लिए मुंबई आया था। फिरोज की मता रतिमाई और पिता जहांगीर फरदून भरुच थे। फिरोज दो बेट हुए (संजय गांधी और राजीव गांधी) थे। राजीव गांधी ने एक ईसाई लड़की से शादी की थी जिसका नाम सोनिया थी।

राजीव गांधी के एक लड़का और एक लड़की हुए (राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी)। संजय गांधी ने एक सिख लड़की से शादी की थी जिसका नाम मेनका है और इनके बेटे का नाम वरुण हैं।

जवाहर लाल नेहरू की शादी 26 साल की आयु में उनके पिता मोतीलाल नेहरू ने एक कश्मीरी ब्राह्मण परिवार की लड़की कमला कौल से कराई थी। जब कमला कौल की आयु 14 साल थी।

यह भी पढ़ेंः राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 / पुष्कर में राहुल गांधी ने बताई अपनी जाती और गौत्र

नेहरू कश्मीरी पंडित थे। उनके पूर्वज 'राज कौल' अठारहवीं सदी में दिल्ली के मुगल दरबार में आ गए थे। वहां पर कौलों की संख्या अधिक थी इस लिए उनके पूर्वज दिल्ली में नहर के किनारे बस गए और का नाम कौल-नेहरू जानें जाना लगा।

कुछ समय बाद उनका परिवार दिल्ली को छोड़कर आगरा चला गया। वहां कौल शब्द समाप्त हो गया और सिर्फ नेहरू नाम रहा गया। सर्वप्रथम मोतीलाल नेहरू ने काउंसिल प्रयागराज में अपना नाम सिर्फ मोतीलाल नेहरू दर्ज करवाया था।

भारत की चुनावी राजनीति में जाति और धर्म के नाम बहुत बयान बाजी हुई है। ऐसे में राहुल गांधी और भाजपा के बयानों को जवाबी रुप में देखा जाना चाहिए। यह सच है कि राहुल गांधी के पूर्वज कश्मीरी कौल ब्राह्मण थे।

Next Story
Share it
Top