Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में कौन बनेगा मुख्यमंत्री, जानें

पांच राज्यों में विधानसभा के नतीजे आने व रूझान के बाद प्राय: हर राज्य में स्थिति साफ हो गई है। इसके साथ ही किस राज्य में कौन मुख्यमंत्री बनेगा इसके लिए भी कयास व प्रयास प्रारंभ हो गए हैं।

राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में कौन बनेगा मुख्यमंत्री, जानें

पांच राज्यों में विधानसभा के नतीजे आने व रूझान के बाद प्राय: हर राज्य में स्थिति साफ हो गई है। इसके साथ ही किस राज्य में कौन मुख्यमंत्री बनेगा इसके लिए भी कयास व प्रयास प्रारंभ हो गए हैं। छत्तीसगढ़ में भाजपा को चौथी बार चुनाव जीतने से कांग्रेस ने रोक दिया है।

राजस्थान की तस्वीर भी कांग्रेस के पक्ष में नजर आ रही है। वहीं, मध्यप्रदेश में अभी मामला बराबरी पर बना हुआ है। राजस्थान में मुख्यमंत्री बनने के दावेदारों में अशोक गहलोत सबसे आगे हैं। वे पहले भी मुख्यमंत्री रहे हैं।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के जीतने की स्थिति में प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को मौका मिल सकता है। वहीं, छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल का नाम सीएम कैंडिडेट के तौर पर आगे चल रहा है।

राजस्थान
राजस्थान में अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने के आसार ज्यादा हैं। इसलिए कि गहलोत संकट मोचक हैं और अन्य दलों से उनका मैनेजमेंट भी अच्छा है। इसके पहले भी जब गहलोत मुख्यमंत्री थे तो उन्हें पूर्ण बहुमत नहीं मिला था। 96 सीटों के साथ कांग्रेस सरकार बनी थी और गहलोत ने सफलतापूर्वक पांच साल राज किया था। सचिन पायलट चूंकि नए हैं, इसलिए कम सीटों की सरकार में उनके सीएम बनने की संभावना कम है।

मध्यप्रदेश
मध्य प्रदेश में दोनों ही दलों के बीच इन पंक्तियों के लिखे जाने तक पेंच फंसा हुआ था। फिर भी भाजपा जीतती है तो शिवराज तय हैं लेकिन कांग्रेस जीतती है तो कमलनाथ की संभावनाएं ज्यादा हैं। यह भी हो सकता है कि कमलनाथ और सिंधिया के झगड़े में दिग्विजय सिंह द्वारा अजय सिंह ‘राहुल भैया’ को आगे कर दिया जाए। अब अजय सिंह चुरहट से खुद ही हार जाएं तो ये उनका दुर्भाग्य होगा। वैसे यहां कांग्रेस में कमलनाथ का नाम सबसे ऊपर है।
तेलंगाना में दूसरी बार केसीआर
टीआरएस अध्यक्ष एवं तेलंगाना के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव का पुन: मुख्यमंत्री बनना तय है। इसके पूर्व भी वे भी उस पद पर आसीन रहे। पूरा चुनाव केसीआर के नेतृत्व में ही लड़ा गया। वैसे भी टीआरएस में और कोई दावेदार है भी नहीं। केसीआर गजवेल विधानसभा सीट से 57,321 मतों के अंतर से जीते। राव को 1,23,996 मत मिले जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के वनतेरु प्रताप रेड्डी को 66,675 वोट मिले।
जोरामथांगा विधायक दल के नेता
मिजोरम के परिणाम घोषित होते ही एमएनएफ ने जारी एक बयान में बताया कि मिजोरम में जोरामथांगा को सर्वसम्मति से एमएनएफ विधायक दल का नेता चुना गया है। ज्ञात हो कि मिजोरम के मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस उम्मीदवार लल थनहवला को सेरछिप में जोराम पीपल्स मूवमेंट के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार लालदुहोमा ने 410 मतों के अंतर से हराया।
लल थनहवला को चम्फाई दक्षिण सीट पर मिजो नेशनल फ्रंट के उम्मीदवार एवं राजनीति के नए खिलाड़ी टी जे लालनंतलुआंग ने 1,049 मतों के अंतर से पराजित किया। मिजोरम मुख्यमंत्री लल थनहवला द्वारा राज्यपाल के. राजशेखरन को अपना इस्तीफा सौंप दिया।
Share it
Top