Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ट्रंप को बढ़त, भारत में नोट बैनः शेयर बाजार में भारी गिरावट

भारत के बाजार पर भी इसका असर पड़ना तय है।

ट्रंप को बढ़त, भारत में नोट बैनः शेयर बाजार में भारी गिरावट
नई दिल्ली. एशियाई मार्केट्स में गिरावट जारी है। अमेरिकी चुनावों के शुरुआती नतीजों में डॉनल्ड ट्रंप को मिलती बढ़त से मार्केट में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है।
जापान का Nikkei 2.4 प्रतिशत यानी 225 अंकों तक गिरा। साथ ही जापानी येन अमेरिकी डॉलर के मुकाबले मजबूत हुआ है। वहीं दक्षिण कोरिया के बाजार भी 1.4 प्रतिशत तक गिर गया। ऑइल के दाम भी 2 प्रतिशत तक गिर गए हैं जिसके और नीचे जाने की संभावना है।
नवभारत टाइम्स के अनुसार, भारत के बाजार पर भी इस का असर पड़ना तय है। भारत सरकार ने बुधवार रात से ही 500 और 1000 रुपए के नोट्स को डीमोनेटाइज कर दिया है। सुबह बाजार जब खुलेगा तो शुरुआती झटके तय माने जा रहे हैं।
ट्रंप की जीत होने से हालांकि इतना ही बड़ा विपरीत असर हो सकता है। हालांकि कुछ एक्सपर्ट्स ने कहा कि कोई भी गिरावट इतनी बड़ी नहीं होगी। मंगलवार को सेंसेक्स 0.48% चढ़कर 27,591.41 पॉइंट्स पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 0.55% चढ़कर 8,543.55 पर रहा। पिछले दो दिनों में दोनों सूचकांकों में लगभग 1.2% बढ़त आई है। ऐसा अमेरिकी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन की ओर से हिलरी को क्लीन चिट मिलने के बाद हुआ है। फिर भी हिलरी की जीत को लेकर हर तरफ उत्साह नहीं है। फार्मा स्टॉक्स में गिरावट आई है क्योंकि हिलरी ने अमेरिका में दवाओं के दाम बढ़ने का विरोध किया है। निफ्टी फार्मा इंडेक्स 1.4% गिरकर 10,665.8 प्वाइंट्स पर रहा। हिलेरी की संभावित जीत को लेकर बने उत्साह के साथ मार्केट में बेचैनी भी बढ़ी है। वोलैटिलिटी इंडेक्स 1.6% बढ़कर 16.77 पर पहुंच गया।
बॉन्ड यील्ड्स में गिरावट रही और डॉलर के मुकाबले रुपया मजबूत हुआ क्योंकि हिलेरी की जीत की उम्मीद में डीलर्स ने अपनी पोजिशंस बदलीं। फर्स्टरैंड बैंक के ट्रेजरर हरिहर कृष्णमूर्ति ने कहा, 'ट्रेड के आखिरी घंटे में तो दांव हिलेरी की जीत पर लग रहा था, जिसे अमेरिकी इकनॉमी और ग्लोबल ग्रोथ के लिए अच्छा माना जा रहा है।'
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top