Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महिला इंस्पेक्टर की हत्या करा साथी पुलिसकर्मी ने किया टुकड़े-टुकड़े, ऐसे दिया घटना को अंजाम

मुंबई की महिला पुलिस इंस्पेक्टर अश्विनी बेंद्रे करीब दो साल पहले ऑफिस से घर के लिए निकली और रहस्यमयी ढंग से गायब हो गई। इस मामले को लेकर मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बड़ा खुलासा किया है।

महिला इंस्पेक्टर की हत्या करा साथी पुलिसकर्मी ने किया टुकड़े-टुकड़े, ऐसे दिया घटना को अंजाम
X

मुंबई की महिला पुलिस इंस्पेक्टर अश्विनी बेंद्रे (37) करीब दो साल पहले ऑफिस से घर के लिए निकली और रहस्यमयी ढंग से गायब हो गई। इस मामले को लेकर मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बड़ा खुलासा किया है।

पुलिस के मुताबिक, जिस दिन अश्विनी बेंद्रे लापता हुई थीं उसी दिन उनकी हत्या कर दी गई थी। ये हत्या सीनियर इंस्पेक्टर अभय कुरुंदकर के इशारे पर की गई थी। इतना ही नहीं आरोपियों ने अश्विनी के शव को लकड़ी काटने की मशीन में डालकर उसके टुकड़े-टुकड़े किए और फिर बोरी में भरकर वसई की खाई में फेंक दिया था।

यह भी पढ़ें- खून की होली: बिहार में अपराधियों के हौसले बुलंद, 4 की हत्‍या, पत्रकार को चाकूओं से गोदा

बता दें कि इस मामले मुख्य आरोपी अभय कुरुंदकर मुंबई पुलिस में सीनियर इंस्पेक्टर भी है। पुलिस ने बताया कि अभय ने अपने ड्राइवर कुंदन भंडारी, राजू पाटिल और अपने बचपन के दोस्त महेश फलनिकर के साथ मिलकर पूरी घटना को अंजाम दिया।

मामले की जांच करने के बाद क्राइम ब्रांच ने चारों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं पुलिस ने बताया कि कुंदन भंडारी और महेश फलनिकर ने पूछताछ में स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम के सामने अपना जुर्म कबूल करते हुए बताया कि कैसे घटना को अंजाम दिया।

ये है पूरा मामला

पुलिस के मुताबिक, असिस्टेंट इंस्पेक्टर अश्विनी बेंद्रे 11 अप्रैल 2016 को अचानक गायब हो गई थीं। अश्विनी ने उस दिन ऑफिस से निकलने से पहले पुलिस ऑफिसर अभय कुरंदकर से फोन पर बात की थी।

इसी के बाद वह मानवाधिकार ऑफिस से निकली और शाम को करीब 6 बजकर 41 मिनट पर ट्रेन से ठाणे पहुंची। यहां पर वो इंस्पेक्टर अभय से मिलीं और दोनों वोक्सवैगन कार में बैठकर भायंदर के लिए रवाना हो गए।

इसके बाद ये दोनों भायंदर के एक होटल में रात 11 बजकर 18 मिनट तक साथ रहे। इसी के बाद से अचानक ही अश्विनी का फोन बंद हुआ और वह लापता हो गई।

जांच अधिकारियों के मुताबिक, मुख्य आरोपी अभय की मोबइल लोकेशन पर एक और सेलफोन एक्टिवेट मिला जिस पर उसकी लगातार बातचीत जारी थी। ये नंबर अभय के 20 साल से ड्राइवर रहे कुंदन भंडारी का था।

इस मामले में पुलिस ने जब कुंदन भंडारी से पूछताछ की तो उसने बताया कि उस दिन पुणे से लौटते समय देर हो गई तो अभय के कहने पर वह होटल में ही सो गया था। इसके बाद वह अगले दिन वहां से चला गया।

यह भी पढ़ें- बॉलीवुड सिंगर पलक मुच्छल के भाई के खिलाफ केस दर्ज, लगे हैं ये आरोप

हालांकि, क्राइम ब्रांच ने जब होटल के रजिस्टर खंगाले तो उन्हें कुंदन भंडारी की कोई एंट्री नहीं मिली। इसी के बाद से स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम को शक हुआ की अश्विनी के गायब होने में कुंदन का हाथ हो सकता है। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस पूछताछ में कुंदन ने जांच टीम को अभय के बचपन के दोस्त महेश फलनिकर के बारे में बताया। पुलिस ने महेश को गिरफ्तार कर जब उससे पूछताछ की तब जाकर पुलिस इंस्पेक्टर अश्विनी बेंद्रे की गुमशुदगी और हत्या का राज सामने आया।

आरोपियों के मुताबिक, पुलिस ऑफिसर अभय के इशारे पर पहले अश्विनी की हत्या की गई फिर लकड़ी काटने की मशीन में डालकर उसके टुकड़े-टुकड़े कर दिए गए और फिर बोरे में भरकर रात के अंधेरे में लाश को वसई में डाल दिया गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story