Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नारायण साईं रेप केस: आसाराम के बाद उसके बेटे की बारी, सूरत कोर्ट में हुई पेशी

आसाराम को रेप केस में सजा होने के बाद अब उसके बेटे नारायण साईं को रेप के एक मामले में आज सूरत कोर्ट में पेशी हुई। सूरत की दो बहनों ने आसाराम और उसके बेटे नारायण साईं पर बलात्कार का आरोप लगाया था।

नारायण साईं रेप केस: आसाराम के बाद उसके बेटे की बारी, सूरत कोर्ट में हुई पेशी
X

आसाराम को बुधवार को रेप केस में सजा होने के बाद अब उसके बेटे नारायण साईं को रेप के एक मामले में आज सूरत कोर्ट में पेश हुई। सूरत की दो बहनों ने आसाराम और उसके बेटे नारायण साईं पर बलात्कार का आरोप लगाया है।

इसी मामले में बुधवार को नारायण साईं की पेशी होनी थी लेकिन पुलिस ने सुरक्षा का हवाला देते हुए कोर्ट से कहा कि नारायण साईं को गुरुवार को कोर्ट में पेश करने की इजाजत दी जाए। कोर्ट पुलिस की अर्जी स्वीकार करते हुए आज नारायण साईं को सूरत कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया।

यह भी पढ़ें- आसाराम से लेकर राम रहीम तक, जानिए 5 ढोंगी बाबाओं और उनसे जुड़ी कॉन्ट्रोवर्सीज के बारे में

हालांकि, पेशी के दौरान मीडिया द्वारा किये गए सवाल पर उसने कोर्इ भी टिप्पणी करने से मना कर दिया। फिलहाल, नारायण साईं की मामले में अभी सुनवाई चल रही है, जिसमें फैसला आने में लंबा वक्त लगने की संभावना है।

बता दें कि नारायण साईं करीब 4 सालों से सूरत की लाजपोर जेल में बंद है। सूरत की दो बहनों ने आसाराम और उसके बेटे पर रेप का आरोप लगाया है। इन दोनों बहनों में से बड़ी बहन ने आसाराम पर, जबकि छोटी बहन ने नारायण साईं पर बलात्कार का आरोप लगाया है।

बुधवार को जोधपुर कोर्ट द्वारा रेप केस में आसाराम को उम्र कैद की सजा मिलने के बाद सूरत की इन बहनों में भी उम्मीद जगी है कि उन्हें भी न्याय जरूर मिलेगा।

क्या है मामला

आसाराम और नारायम साईं के खिलाफ दर्ज यह बलात्कार का मामला करीब 10 साल पुराना है। पुलिस ने पीड़ित बहनों के बयान और घटनास्थल से मिले सबूतों के आधार पर यह मामला दर्ज किया था। मामले में छोटी बहन ने अपने बयान में नारायण साईं के खिलाफ ठोस सबूत देते हुए हर लोकेशन की पहचान की।

यह भी पढ़ें- Video: गिरफ्तारी से पहले कुछ ऐसे थे आसाराम के रंग, भक्तों के सामने लगाता था ठुमका

जैसे ही इस मामले में नारायण साईं के खिलाफ FIR दर्ज हुई वह अंडरग्राउंड हो गया था। वह लगातार पुलिस से बचकर अपनी ठिकाना बदल रहा था। नारायण साईं को गिरफ्तार करने के लिए तत्कालीन सूरत पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने उस समय 58 अलग-अलग टीमें गठित की थी।

केस दर्ज होने के तकरीबन दो महीने के बाद नारायण साईं को हरियाणा-दिल्ली सीमा के पास से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तारी के समय नरायण ने सिख व्यक्ति का भेष धर रखा था।

इतना ही नहीं नारायण साईं ने गिरफ्तारी से बचने के लिए पुलिसकर्मियों को 13 करोड़ की रिश्वत देने की भी कोशिश की। जिसके बाद रिश्वत लेने के आरोप में एक पुलिस इंस्पेक्टर को गिरफ्तार भी किया गया। रेप के बाद नारायण साईं पर पुलिस को रिश्वत देने का मामला भी दर्ज हुआ है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story