Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Video: गिरफ्तारी से पहले कुछ ऐसे थे आसाराम के रंग, भक्तों के सामने लगाता था ठुमका

नबालिग से रेप केस में आज जोधपुर कोर्ट ने आसाराम समेत 3 आरोपियों को दोषी करार दिया है। 15 अगस्त 2013 को 16 साल की नाबालिग ने आसाराम पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था। हलांकि, इससे पहले भी आसाराम की कई ऐसी हरकतें रहीं हैं, जिनकी वजह से वह विवादों में रहा है।

Video: गिरफ्तारी से पहले कुछ ऐसे थे आसाराम के रंग, भक्तों के सामने लगाता था ठुमका

नबालिग से रेप केस में आज जोधपुर कोर्ट ने आसाराम समेत 3 आरोपियों को दोषी करार दिया है। 15 अगस्त 2013 को 16 साल की नाबालिग ने आसाराम पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया था।

हलांकि, इससे पहले भी आसाराम की कई ऐसी हरकतें रहीं हैं, जिनकी वजह से वह विवादों में रहा है। जेल में जाने से पहले आसाराम के अलग ही रंग था। वह जब भी भक्तों के सामने आता तो ठुमका लगाता, जिसे 'दिव्य दर्शन लीला' का नाम दिया गया था।

यह भी पढ़ें- #AsaramBapu: जानिए आसाराम के केस में बीते 5 सालों में अब तक क्या-क्या हुआ

बता दे कि रेप केस में गिरफ्तारी के बाद आसाराम का ऐसा ही एक वीडियो वायरल भी हुआ था, जिसमें उसने साल 2013 में सूरत में अपने भक्तों पर पानी की बौछार करके होली खेली थी। इस पर उस समय काफी विवाद भी हुआ था।

पानी बर्बाद करने का ये मामला जब मीडिया में आया तब आसाराम ने झुंझलाते हुए कहा था कि हम किसी सरकार या सरकार के बाप का पानी नहीं इस्तेमाल करते।

4 करोड़ से ज्यादा भक्त

आसाराम के आश्रमों की बेवसाइट पर उपलब्ध जानकारियों के अनुसार, दुनियाभर में आसाराम के 4 करोड़ से भी ज्यादा अनुयायी है। साथ ही उसके पूरी दुनिया में उसके 400 से ज्यादा आश्रम भी हैं।

यह भी पढ़ें- आसाराम से लेकर राम रहीम तक, जानिए 5 ढोंगी बाबाओं और उनसे जुड़ी कॉन्ट्रोवर्सीज के बारे में

जानकारी के मुताबिक, आसाराम ने अपने कार्यक्रमों में मुफ्त भोजन जैसी सुविधाएं शुरू की थीं, जिससे कमजोर तबके के लोग बड़ी संख्या में उसके भक्त बन गए।

यह भी पढ़ें- ऑनर किलिंग: लड़की ने किया शादी से इनकार, तो पिता-भाई ने मिलकर उतारा मौत के घाट

कौन हैं आसाराम

विवादास्पद धर्मगुरु आसराम का जन्म साल 1941 में पाकिस्तान के सिंध इलाके में हुआ था। उसका असली नाम असुमल हरपलानी है। भारत-पाक विभाजन के बाद आसाराम का परिवार अहमदाबाद आ गया था।

यहीं 20 साल की उम्र में असमुल ने अध्यात्म की राह को अपनाया और लीलाशाह का चेला बन गया। इसके बाद साल 1972 में आसाराम ने अहमदाबाद से करीब 10 किमी. दूर मुटेरा कस्बे में अपने पहले आश्रम की शुरूआत की। आसाराम पर रेप, हत्या, जमीन हथियाने समेत कई संगीन आरोप लगे हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top