Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अरविंद सुब्रमण्यन जल्द छोड़ेंगे वित्त मंत्रालय, अरुण जेटली को बताया ''ड्रीम बॉस''

सुब्रमण्यन अक्टूबर में वापिस अमरीका लौट जाना चाहते हैं यहां उनका पूरा परिवार रहता है। उनका कार्यकाल अक्टूबर में खत्म होने जा रहा है।

अरविंद सुब्रमण्यन जल्द छोड़ेंगे वित्त मंत्रालय, अरुण जेटली को बताया

मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन ने बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। सुब्रमण्यन ने वित्त मंत्रालय से कार्यकाल न बढ़ाने के लिए कहा था जिसे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मान लिया है।

बताया जा रहा है कि सुब्रमण्यन अक्टूबर में वापिस अमरीका लौट जाना चाहते हैं यहां उनका पूरा परिवार रहता है। उनका कार्यकाल अक्टूबर में खत्म होने जा रहा है। इस्तीफे के बाद मुख्य आर्थिक सलाहकार सुब्रमण्यन ने जेटली की तारीफ की और उन्हें ड्रीम बॉस बताया।

उन्होंने अपने कार्यकाल को लेकर कहा, यह उनका सर्वश्रेष्ठ जॉब था और रहेगा। सुब्रमण्यन ने यह भी जोड़ा कि वह कार्यकाल के बाद भी देश की सेवा को प्रतिबद्ध हैं।

उन्होंने कहा कि वह एक या दो महीने में 'अच्छी यादों ' के साथ वित्त मंत्रालय से विदाई लेंगे। हालांकि, उन्होंने तारीख का फैसला वित्त मंत्रालय पर छोड़ा।

16 अक्टूबर 2014 में नियुक्त हुए थे सीईए

सुब्रमण्यन को 16 अक्टूबर, 2014 को वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया गया था। उनकी नियुक्ति तीन साल के लिए हुई थी। 2017 में उनके कार्यकाल को एक साल के लिए बढ़ाया गया था।

उन्होंने कहा कि उनके बाद यह जिम्मा कौन संभालेगा इसकी खोज जल्द शुरू होगी। अपने कार्यकाल को लेकर उन्होंने कहा, आप मुझे अच्छा सीईए या बुरा सीईए कह सकते हैं, लेकिन आलसी या निष्क्रिय सीईए नहीं।

कार्यकाल की उपलब्धियों को लेकर उन्होंने गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) और उनके द्वारा प्रकाशित इकनॉमिक सर्वे का जिक्र किया।

जीएसटी में कुछ बदलाव की सलाह देते हुए उन्होंने कहा, मैं चाहूंगा कि ऐल्कॉहॉल को जीएसटी के तहत लाया जाए। उन्होंने दुनियाभर में आर्थिक विकास पर एक किताब लिखने की भी इच्छा जाहिर की।

पारिवारिक कारणों से सुब्रमण्यन लौटना चाहते हैं अमरिका

इससे पहले जेटली ने फेसबुक पोस्ट के जरिए बताया कि सुब्रमण्यन पारिवारिक प्रतिबद्धताओं की वजह से अमेरिका लौटना चाहते हैं। उनके कारण व्यक्तिगत हैं, लेकिन उनके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं।

जेटली ने भारतीय अर्थव्यवस्था के वृहद आर्थिक प्रबंधन के लिए सुब्रमण्यन का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा,व्यक्तिगत रूप से मुझे उनके व्यक्तित्व, ऊर्जा, बौद्धिक क्षमता और विचारों की कमी खलेगी। एक दिन में वह कई बार मेरे कमरे में आकर मुझे 'मिनिस्टर' कहकर बुलाते थे।

पिछले साल बढ़ाया था कार्यकाल

गौरतलब है कि अरविंद सुब्रमण्यन 16 अक्टूबर, 2014 को भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाकार बनाए गए थे। उनकी यह नियुक्ति तीन साल की थी।

इस नाते उनका कार्यकाल 15 अक्टूबर, 2017 तक का था। लेकिन केंद्र सरकार ने उन्हें एक साल का कार्यकाल विस्तार दे दिया। यानी उनका 15 अक्टूबर, 2018 तक पद पर रहना पक्का हो गया।

सी.ई.ए. वित्त मंत्री को बड़े आर्थिक मामलों पर सलाह देता है और अन्य बातों के अलावा आर्थिक समीक्षा तथा मध्यावधि समीक्षा तैयार करता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top