Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अरुणाचल: सीएम खांडू समेत 44 विधायकों ने कांग्रेस पार्टी छोड़ी

कांग्रेस पार्टी के 45 में से 44 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है।

अरुणाचल: सीएम खांडू समेत 44 विधायकों ने कांग्रेस पार्टी छोड़ी
नई दिल्ली. अरुणाचल प्रदेश में एक बार फिर से कांग्रेस की सरकार पर खतरा मंडराने लगा है। कांग्रेस के हाथ से फिर अरुणाचल प्रदेश निकलता हुआ नजर आ रहा है। अभी अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस की सरकार को सुप्रीम कोर्ट से बहाली के बाद बने हुए एक महीना ही हुआ था कि फिर से कांग्रेस की सरकार लड़खड़ा गई है।
कांग्रेस पार्टी के विधायक अपनी ही पार्टी के खिलाफ बगावत पर उतर आए हैं। खबर है कि 45 में से 44 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। बड़ी बात ये है कि इसमें मुख्यमंत्री पेमा खांडू भी शामिल हैं। पेमा खांडू पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत दोरजी खांडू के बेटे हैं। सभी बागी विधायकों ने क्षेत्रीय दल पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल (पीपीए) का दामन थाम लिया है। सुत्रों से पता चला है कि पीपीए नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस का साथ दे सकता है।
आपको बता दें मई 2016 में भी पीपीए ने इस एलायंस का साथ दिया था जब राज्य में बीजेपी की सरकार बनी थी। पीपीए असम की बीजेपी सरकार में मंत्री हेमंत विस्वा शर्मा की पार्टी है। इस पार्टी की स्थापना 1979 में एक क्षेत्रीय दल के रूप में हुई थी। भूतपूर्व मुख्यमंत्री कालिखो पुल जो नबाम तुकी सरकार में मंत्री थे, फरवरी 2016 में पीपीए में शामिल हो गए थे। उस वक्त कांग्रेस के 24 विधायक उनके साथ पीपीए में शामिल हुए थे। शायद यही वजह है कि खांडू ने बीजेपी की जगह पीपीए को चुना है।
60 सदस्यीय अरुणाचल प्रदेश की विधानसभा में कांग्रेस के 46 विधायक हैं, जबकि बीजेपी के 11 विधायक हैं। कांग्रेस में पहली बगावत नवंबर, 2015 में हुई थी। तभी से वहां राजनीतिक उथल-पुथल का दौर जारी है। उस समय कांग्रेस की सरकार गिर गई थी और कालिखो पुल की अगुवाई में नई सरकार बनी थी, जिसे बीजेपी के 11 विधायकों ने समर्थन दिया था।
गौर हो कि खांडू के विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद दो निर्दलीयों और 45 पार्टी विधायकों के समर्थन से कांग्रेस ने एक बार फिर राज्य में सरकार बना ली थी। तेजी से बदले घटनाक्रम के बाद बागी नेता खालिको पुल अपने 30 साथी बागी विधायकों के साथ पार्टी में लौट आए थे। गौरतलब है कि खालिको पुल बागी होकर मुख्यमंत्री बने थे, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने अपदस्थ कर दिया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Share it
Top