Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''कलवरी'' और ''खांदेरी'' के बाद नौसेना ''करंज'' पनडुब्बी कर रही है लॉन्च, जानें खासियतें

दुश्मनों के गलत इरादों को नाकामयाब करने के लिए भारतीय नौसेना में स्कॉर्पीन श्रेणी की नई पनडुब्बी शामिल की जा रही है। कल मुंबई मझगांव डॉक पर स्कॉर्पीन श्रेणी की तीसरी पनडुब्बी आईएनएस ''करंज'' को लॉन्च किया जाएगा।

दुश्मनों के गलत इरादों को नाकामयाब करने के लिए भारतीय नौसेना में स्कॉर्पीन श्रेणी की नई पनडुब्बी शामिल की जा रही है। बुधवार (31 जनवरी) को मुंबई मझगांव डॉक पर स्कॉर्पीन श्रेणी की तीसरी पनडुब्बी आईएनएस 'करंज' को लॉन्च किया जाएगा।

इस लॉन्चिंग के मौके पर नौसेना प्रमुख सुनील लांबा भी शामिल होंगे। इस पनडुब्बी की खास बात यह है कि 'करंज' एक स्वदेशी पनडुब्बी है, जो 'मेक इन इंडिया' के मद्दे नजर रखते हुए बनाया गया है, लेकिन इससे पहले नौसेना में कलवरी और खांदेरी भी अपना हुनर दिखा चुके हैं।

इसे भी पढ़ें : U19 WC: पाकिस्तान को हराकर वर्ल्ड कप के फाइनल में टीम इंडिया, ऑस्ट्रेलिया से महामुकाबला

'करंज' है सबसे अलग पनडुब्बी

अगर इस पनडुब्बी की खासियतों की बात करें तो इसमें कई तरह के फीचर्स हैं, जो दुश्मन देशों का सामना करने के लिए बहुत जरूरी है। यह दुश्मनों पर अपना निशाना साधने के बाद ये टारगेट किए हुए एरिया की धज्जियां उड़ा देता है। ऐसी खुबियों को देख कर चीन और पाकिस्तान जैसे देशों के पसीने छूट जाएगें।
इसके साथ ही 'करंज' टॉरपीडो और एंटी शिप मिसाइलों से हमला भी कर सकता है। युद्ध की स्थिति में पनडुब्बी आने वाली हर तरह की अड़चनों का सामना कर आराम से दुश्मनों को चकमा देकर बाहर निकल सकती है।
ये समुद्र की सतह से भी दुश्मनों को मुहतोड़ जबाव दे सकता है। इसको बहुत ही अलग तरह से बनाया गया है, जिसको किसी भी तरह की जंग में अॉपरेट किया जा सकता है।
यह पनडुब्बी हर तरह के वॉरफेयर, एंटी-सबमरीन वॉरफेयर और इंटेलिजेंस को इकट्ठा करने जैसे कामों को भी बखूबी अंजाम दे सकती है। बता दें कि करंज पनडुब्बी 67.5 मीटर लंबा, 12.3 मीटर ऊंचा, 1565 टन वजनी है।

'करंज' से कांपेगा भारत का दुश्मन

  • यह करंज रडार की पकड़ में नहीं आ सकता है।
  • जमीन पर भी हमला कर सकता है करंज।
  • करंज पनडुब्बी में ऑक्सीजन बनाने की भी क्षमता है।
  • करंज लंबे समय तक पानी में रह सकती है।

इसे भी पढ़ें : दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- कर्नाटक में 'चड्ढीधारियों' को हराना है

ये है कलवरी और खंडेरी पनडुब्बी की खासियतें

  • 13 दिसंबर, 2017 को प्रधानमंत्री मोदी ने आइएनएस कलवरी को देश के नाम समर्पित किया था।
  • वहीं, खांदेरी पनडुब्बी को 12 जनवरी, 2017 को लॉन्च किया गया था।
  • कलवरी और खंडेरी पनडुब्बियां आधुनिक फीचर्स से लैस है।
  • यह दुश्मन की नजरों से बचकर सटीक निशाना लगा सकती हैं।
  • इसके साथ ही टॉरपीडो और एंटी शिप मिसाइलों से हमले भी कर सकती हैं।
Loading...
Share it
Top