Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आर्मी चीफ बनते ही जनरल बिपिन रावत ने भरी हुंकार

सेना का काम सीमा पर शांति बनाए रखना है लेकिन जरूरत पड़ने पर वह ताकत का इस्तेमाल करने से नहीं चूकेगी

आर्मी चीफ बनते ही जनरल बिपिन रावत ने भरी हुंकार
X
नई दिल्ली. सेना के नए प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि सेना की भूमिका सीमा पर शांति बनाए रखने की है लेकिन वह ‘‘जरूरत पड़ने पर अपनी ताकत का इस्तेमाल करने से नहीं’’ चूकेगी। उन्होंने कहा कि सेना की पूर्वी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बख्शी और दक्षिणी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल पी एम हारिज सेना में सेवा देते रहेंगे और उसकी एकता बनाए रखेंगे।
जनरल रावत ने कहा, ‘‘सेना का काम सीमा पर शांति बनाए रखना है लेकिन जरूरत पड़ने पर वह ताकत का इस्तेमाल करने से नहीं चूकेगी।’’उन्होंने कहा कि सेना की सभी इकाइयां एवं सेवाएं एकजुट हैं और वह उनमें से हर एक को एक अकेली इकाई के रूप में देखेंगे।
देश की सेना के 27वें प्रमुख के रूप में शनिवार (31 दिसंबर) को पदभार संभालने वाले रावत यहां साउथ ब्लॉक में गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण करने के बाद संवाददाताओं से बात कर रहे थे।
इससे पहले लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बख्शी ने नए साल के जश्न में हुए एक कार्यक्रम में बात करते हुए कहा था कि वह सेना नहीं छोड़ रहे। दरअसल, इससे पहले तक खबरें आ रही थीं कि बक्शी रावत के सेना प्रमुख बनने से नाराज हैं और सेना छोड़ देंगे। लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बक्शी ने बताया था कि उन्होंने फोन करके रावत को बधाई भी दी थी।
दरअसल, सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत को नया थलसेनाध्‍यक्ष चुना था। इसके लिए सीनियरिटी के आधार पर चीफ बनाने की प्रथा को 1983 के बाद पहली बार नजरअंदाज किया गया था।
लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत को चीफ चुने जाने के लिए कमांड चीफ लेफटिनेंट प्रवीण बक्शी और दक्षिणी कमान के आर्मी चीफ लेफटिनेंट पीएम हारिज को नजरअंदाज किया गया था। इसपर विवाद हुआ था। लोगों ने इसे सांप्रदायिक रंग देकर यह भी कहा था कि मोदी किसी मुस्लिम को चीफ नहीं बनाना चाहते थे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story