Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेना प्रमुख की नियुक्ति में नहीं किया उल्लंघन: मनोहर पर्रिकर

नए सेना प्रमुख बिपिन रावत की नियुक्ति को लेकर विवाद पर रक्षा मंत्री आए सामने

सेना प्रमुख की नियुक्ति में नहीं किया उल्लंघन: मनोहर पर्रिकर
नई दिल्ली. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का कहना है कि नए सेनाप्रमुख के रूप में जनरल बिपिन रावत की नियुक्ति को लेकर रक्षा मंत्रालय ने नियुक्ति प्रक्रिया का कोई उल्लंघन नहीं किया है। इस महत्वपूर्ण पद के लिए सामने आए सभी कमांडर पूरी तरह से सक्षम और क्षमतावान हैं। ये न केवल अच्छे हैं। बल्कि बहुत अच्छे हैं। यह बातें रक्षा मंत्री ने यहां मंगलवार को स्वच्छता पखवाड़ा (1 से 15 दिसंबर तक आयोजित) के समापन के बाद आयोजित संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों के सवालों के जवाब में दी।
उन्होंने कहा कि सबसे पहले तो मैं आपको बता दूं कि मुझे नहीं पता है कि नियुक्ति को लेकर वरिष्ठता का सिद्धांत कहां है। ऐसा कोई सिद्धांत नहीं है। यह एक प्रक्रिया है, जहां सभी कमांडरों का परफॉर्मेंस के आधार पर आकलन किया जाता है। गौरतलब है कि रक्षा मंत्रालय द्वारा सेनाप्रमुख के रूप में जनरल बिपिन रावत की नियुक्ति के ऐलान के बाद इस दौड़ में सबसे आगे चल रहे सेना के दो वरिष्ठ अधिकारियों लेफ्टिनेंट जनरल प्रवीण बक्शी और पी.एम.हैरिज की वरिष्ठता को दरकिनार किए जाने की चर्चा रक्षा हलकों में काफी तेज हो गई थी। इसी के जवाब में पर्रिकर ने यह बयान दिया है।
पर्रिकर ने कहा कि नियुक्ति को लेकर अगर प्रक्रिया नहीं होती तो केवल चयन सूची में शामिल नामों को उनकी जन्म की तारीख के आधार पर कंप्युटर में डालकर स्वीकृत कर दिया जाता। इसके बाद तो रक्षा मंत्री, केंद्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों की समिति (सीसीएस) जैसे ढांचे की भी कोई जरूरत नहीं पड़ती। इसके अलावा सरकार की ओर से जो तीन-चार महीने की पड़ताल के बाद आईबी व अन्य जांच एजेंसियों की रिपोर्ट मंगवायी गई, उसकी भी कोई आवश्यकता नहीं होती।
यहां बता दें कि जनरल बिपिन रावत के नाम की घोषणा होने के बाद शुरूआत मेंं ले.जनरल बक्शी द्वारा इस्तीफा दिए जाने की खबरें रक्षा मंत्रालय में घूम रही थीं। लेकिन हाल ही में उनके द्वारा इस्तीफा नहीं दिए जाने और सेना की पूर्वी कमांड की अगुवाई करने की पुष्टि हो गई है। साथ ही यह कयास भी लगने शुरू हो गए हैं कि ले.जनरल बक्शी को सरकार की ओर से किसी राज्य का राज्यपाल या राजदूत जैसे किसी उच्च संवैधानिक पद पर तैनात किया जा सकता है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top