Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

एयरफोर्स मार्शल अर्जन सिंह की हालत नाजुक, पूर्व जनरल वीके सिंह ने डिलीट किया RIP वाला ट्वीट

भारतीय वायु सेना के मार्शल अर्जन सिंह का शनिवार को दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद लगातार उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

एयरफोर्स मार्शल अर्जन सिंह की हालत नाजुक, पूर्व जनरल वीके सिंह ने डिलीट किया RIP वाला ट्वीट
भारतीय वायु सेना के मार्शल अर्जन सिंह का शनिवार को दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद लगातार उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। वह 98 वर्ष के थे। दिल्ली के आर्मी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी, रक्षामंत्री निर्मला सितारमण समेत सेना के कई अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। इसी बीच कई बार उनके निधन हो जाने की खबरें आईं। बाद में जब पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह ने RIP ट्वीट किया तो खबरें पक्की माने जाने लगीं।

लेकिन ट्वीट करने के कुछ समय बाद उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर लिया है।

अर्जन सिंह पहले मार्शल थे, जिन्हें 44 की उम्र में ही वायु सेना प्रमुख नियुक्त किया गया था। खास बात यह है कि चीन के साथ युद्ध में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी।
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अर्जन सिंह का हालचाल जानने आज ही आर्मी अस्पताल पहुंचे थे। दोनों ने अर्जन सिंह के निधन पर शोक संदेश भी दिया है।
सीतारमण ने कहा है कि हमें सूचना मिली थी कि अर्जन सिंह को आज तड़के हार्ट अटैक हुआ है। जिसके बाद उन्हें आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया।
इस बीच, प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्वीट के जरिए बताया है, 'मार्शल अर्जन सिंह का हालचाल लेने आर्मी अस्पताल में गया था, जहां उनकी हालत चिंताजनक थी। मैं उनके परिजनों से भी मिला हूं।'
पद्म विभूषण से सम्मानित अर्जन सिंह सेना के 5 स्टार रैंक वाले ऑफिसर थे। यह रैंक अभी तक फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ और फील्ड मार्शल के एम. करियप्पा के पास थी। ये तीनों भारतीय वायुसेना के ऐसे सेनानी थे, जो कभी रिटायर नहीं हुए।
15 अप्रैल 1919 को लायलपुर (पाक) में जन्मे अर्जन सिंह ने अपनी शिक्षा पाक के मोंटगोमरी में पूरी की थी। 19 साल में वो पायलट ट्रेनिंग कोर्स के लिए चयनित हो गए थे। चीन से 1962 की लड़ाई के बाद 1963 में वो वायु सेना उप-प्रमुख बने।
यह अर्जन सिंह ही थे, जिन्होंने 15 अगस्त 1947 को लाल किले के ऊपर से वायु सेना के 100 से ज्यादा विमानों के फ्लाइ-पास्ट का नेतृत्व किया था। पाक के खिलाफ युद्ध में अहम भूमिका निभाने के बाद उनके वायु सेना प्रमुख के रैंक को बढ़ाकर पहली बार एयर चीफ मार्शल किया गया।
Next Story
Top