Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब आधार कार्ड से जोड़े जाएंगे ''आंगनबाड़ी'' के बच्चे

आंगनबाड़ी केंद्रों के जरिए बच्चों और जरूरतमंद माताआें को छह तरह के लाभ दिए जाते हैं।

अब आधार कार्ड से जोड़े जाएंगे
नई दिल्ली. पांच साल से कम उम्र के आंगनबाड़ी केंद्रों में जाने वाले बच्चों को आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा। इससे केंद्र में जाने वाले बच्चों के बारे में वास्तविक डेटा मिल सकेगा। इसके अलावा केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने आंगनबाड़ी केंद्रों में काम करने वाले वर्करों और हेल्परों को भी आधार से जोड़ने की योजना का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश ने इस कड़ी में एक कदम और बढ़ाते हुए प्रदेश में मौजूद बाल गृहों, बाल आश्रम और बाल सुधार गृहों में मौजूद बच्चों को भी आधार से जोड़ने की योजना पर काम करना शुरु कर दिया है।
राज्य खोलें विशेष कैंप
मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि इस बाबत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सूचित करते हुए कहा गया है कि वो अपने यहां आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को आधार से जोड़ने के लिए विशेष शिविरों का आयोजन करें। आंकड़ों के हिसाब से देश में पांच वर्ष से कम आयु की 32.3 फीसदी आबादी को आधार कार्ड की आवश्यकता है। मंत्रालय की एकीकृत बाल विकास योजना (आइसीडीएस) के तहत सात हजार 73 परियोजनाएं चल रही हैं। इसमें 13.49 लाख आंगनबाड़ी चल रहे हैं, जिनसे 820.65 लाख बच्चे लाभांवित हो रहे हैं। इसके अलावा 189.91 लाख महिलाएं भी इन केंद्रों से स्वास्थ्य व अन्य जरूरी सुविधाओं का लाभ ले रही हैं। गौरतलब है कि आइसीडीएस योजना के तहत लाभ पाने वालों का कुल आंकड़ा 1010.56 लाख है।
आधार कानून हुआ अधिसूचित
केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने हाल ही में संसद में इस बारे में पूछे गए एक प्रश्न के लिखित जवाब में कहा था कि आधार कानून 2016 को इसी वर्ष मार्च महीने में 'गजट' (भारत का राजपत्र) में अधिसूचित किया गया है। इसके तहत अब देश के नागरिकों को आधार जारी करने का कानूनी अधिकार यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथोरिटी ऑफ इंडिया (यूआइडीएआइ) को मिल गया है। इसके अलावा मंत्रालय की अन्य योजनाआें को डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) प्लेटफार्म में शामिल किया जाएगा। इससे इन्हें आधार से जोड़ने में आसानी होगी। आइसीडीएस और राजीव गांधी नेशनल क्रेच स्कीम के तहत आंगनबाड़ी वर्करों और हेल्परों को भुगतान किया जाता है।
योजनाआें का लाभ
आइसीडीएस में आंगनबाड़ी केंद्रों के जरिए बच्चों और जरूरतमंद माताआें को छह तरह के लाभ दिए जाते हैं। इसमें सप्लीमेंट्री न्यूट्रिशन, प्री-स्कूल नॉन-फार्मल एजुकेशन, न्यूट्रीशन एंड हेल्थ एजुकेशन, इम्युनाइजेशन, हेल्थ चैक-अप, रैफरल सर्विसेज टू चिल्ड्रन एंड मदर्स शामिल हैं। इनमें से इम्युनाइजेशन, हेल्थ चैकअप एंड रैफरल सर्विसेज स्वास्थ्य से जुड़े हैं और इनमें मदद पब्लिक हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर से की जाती है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top