Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारत में रोजगार के अवसरों की भरमार

आनंद महिंद्रा ने कहा कि प्रौद्योगिकी किसी ताकत की तरह है और सबकुछ इस पर निर्भर करता है कि आप इसका कैसे इस्तेमाल करें।

भारत में रोजगार के अवसरों की भरमार

दावोस(स्विटजरलैंड). विश्व आर्थिक मंच के एक नए अध्ययन में 'चौथी औद्योगिक' क्रांति के कारण अगले पांच साल में 50 लाख से अधिक रोजगारों का शुद्ध नुकसान होने की चेतावनी के बीच प्रमुख आईटी कंपनी इन्फोसिस के सीईओ विशाल सिक्का ने बुधवार को कहा कि भारत में रोजगार के व्यापक अवसर हैं लेकिन लोगों को सही कौशल व प्रशिक्षण दिए जाने की जरूरत है।

ये भी पढ़ें: सरकार की जेब में नहीं जा रहा तेल की गिरती कीमतों का हिस्सा: अरुण जेटली

सिक्का यहां मंच के सालाना शिखर सम्मेलन में चौथी औद्योगिक क्राति के रोजगार बाजार पर असर पर 'प्रगति के वादे' शीर्षक सत्र को संबोधित कर रहे थे। सिक्का ने कहा कि निश्चित रूप से विघ्न होंगे लेकिन नई प्रौद्योगिकी अनिवार्य रूप से असंतुलन पैदा करने वाली नहीं होगी बशर्ते लोगों को सही तरह की शिक्षा, संपर्क व प्रशिक्षण उपलब्ध करवाया जाए।
इस्तेमाल पर निर्भर प्रौद्योगिकी : महिंद्रा
प्रमुख उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने कहा कि प्रौद्योगिकी किसी ताकत की तरह है और सबकुछ इस पर निर्भर करता है कि आप इसका कैसे इस्तेमाल करें। उन्होंने चर्चित 'स्टार वार्स' र्शृंखला का संदर्भ देते हुए कहा कि प्रौद्योगिकी 'फोर्स' की तरह है और सबकुछ इस बात पर निर्भर करता है कि आप इसका कैसे इस्तेमाल करें।
माइक्रोसाफ्ट के सीईओ सत्य नाडेला ने भी कहा कि दुनिया एक और 'डिजिटल विभाजन' को वहन नहीं कर सकती और बड़ा सवाल यह सुनिश्चित करना है कि चौथी औद्योगिक क्रांति डिजिटल लाभ की वाहक कैसे बने। नाडेला ने आयोजन के दौरान महिंद्रा के साथ 'ट्रांसफोर्मेशन आफ टुमारो' सत्र में भाग लिया।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top