Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हम त्रिपुरा में हिंसा की नहीं, बल्कि विकास की राजनीति लाना चाहते हैं: अमित शाह

भाजपा त्रिपुरा में हिंसा कि राजनीति नहीं चाहते है । बलकि विकास की राजनीति लाना चाहती हैं

हम त्रिपुरा में हिंसा की नहीं, बल्कि विकास की राजनीति लाना चाहते हैं: अमित शाह
X

त्रिपुरा में 18 फरवरी को होने जा रहे विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए रविवार को भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने रैली में जनता को संबोधित करते हुए कहा कि हम त्रिपुरा में हिंसा कि राजनीति नहीं चाहते है बल्कि विकास की राजनीति लाना चाहते हैं। उन्होंने आगे कहा, त्रिपुरा में स्टालिन और लेनिन की जयंती मनाई जाती है, लेकिन टैगोर और विवेकानंद की जंयती क्यों नहीं मनाई जाती।

अमित शाह ने त्रिपुरा के लोगों से कहां कि अगर त्रिपुरा में भाजपा की सरकार आएगी तो उनकी सरकार 5 सालों में त्रिपुरा को आर्दश राज्य में बदल देंगे।

अमित शाह ने राज्‍य की कम्‍यूनिस्‍ट सरकार पर वार करते हुए कहां कि हम त्रिपुरा में परिवर्तन लाना चाहते है। यहां पर लाल भाइयों की सरकार बनी हुई है। मैं यह जानना चाहता हूं कि यहां के सरकारी कर्मचारियों को 7 वें वेतन आयोग के अंतर्गत कभी वेतन प्राप्त होता है क्या?

अमित शाह ने रैली मे सीपीएम पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि त्रिपुरा के लोगों को दबाकर रखा जाता है। त्रिपुरा के लोगों को वोट देने से रोका जाता हैं। और मैं अब आपको यह कहना चाहता हूं कि इस बार आपका मुकाबला भाजपा से है, तो जरा संभल कर रहिए। उनकी पार्टी किसी हिंसा से नहीं डरती।

आपको बता दें आज तीन जगहों मोहनपुर, चौमानू और तेलियामूरा टाउन हॉल में अमित शाह ने जनसभा को संबोधित किया। आखिरी रैली उनकी शाम साढ़े तीन बजे तेलियामूरा टाउन हॉल में थी। त्रिपुरा में 60 सीटों पर विधानसभा का चुनाव 18 फरवरी को होने जा रहा है और इसके परिणाम तीन मार्च को आएगा। पार्टियों का प्रचार जोरो-शोरो पर हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story