Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''स्पाइडर मैन'' बन हॉस्पिटल में बच्चों के साथ करता था घिनौनी हरकत, 105 साल की हुई जेल

अमेरिका में स्पाइडर मैन बनकर बच्चों के हॉस्पिटल की सफाई करने वाले एक शख्स को कोर्ट ने 105 साल की सजा सुनाई है। आरोप है कि ये शख्स बच्चों के अश्लील वीडियो बनाता था फिर उसे ऑनलाइन बेच देता था।

स्पाइडर मैन बन हॉस्पिटल में बच्चों के साथ करता था घिनौनी हरकत, 105 साल की हुई जेल
X

अमेरिका में स्पाइडर मैन बनकर बच्चों के हॉस्पिटल की सफाई करने वाले एक शख्स को बच्चों के अश्लील वीडियो बनाकर उसे ऑनलाइन बेचने के आरोप में कोर्ट ने 105 साल की सजा सुनाई है।

क्या है मामला

डेली मेल की एक रिपोर्ट के अनुसार, यह शख्स स्पाइडर मैन बनकर पहले बच्चों का अश्लील वीडियो बनाता था फिर उसे ऑनलाइन बेच देता था।

यह भी पढें- यमुना एक्सप्रेस-वे पर कार और बाइक की भीषण भिड़ंत, मौके पर तीन लोगों की मौत

जब आरोपी की बच्चों के साथ की गई इस घिनौनी हरकत का खुलासा हुआ तो कोर्ट ने बिना कोई नर्मी बरते उसे 105 साल की सजा सुना दी। साथ ही कोर् ने उसे 31 हजार डॉलर यानी करीब 20 लाख रुपए का हर्जाना पीड़ित बच्चों को देने के लिए भी कहा।

वीडियो अपलोड कर लिखता था ये मैसेज

रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका के नैशविले निवासी जराट टर्नर (36) बच्चों की पोर्नोग्राफी करने और आपत्तिजनक वीडियोज बेचने का दोषी पाया गया। आरोपी ने कई वीडियो इंटरनेट पर डाले और उस पर लिखा कि मुझे बच्चे सबसे ज्यादा प्यारे लगते हैं और उम्मीद है कि आपको भी ये वीडियो देखने के बाद इन बच्चों पर प्यार आएगा। ये बात इस शख्स की मानसिकता को दर्शाता है कि ये किस तरह से छोटे बच्चों को देखता था।

ऐसे बनाता था शिकार

बता दें कि आरोपी टर्नर साल 2014 में उस समय सुर्खियों में आया था जब उसने पहली बार स्पाइडरमैन जैसे कपड़े पहन हॉस्पिटल के कांच साफ किए थे। इसके बाद से ही उसे नैशविले का 'स्पाइडर मैन' कहा जाने लगा था।

जांच में सामने आया कि आरोपी ने अपने घर की बेसमेंट में एक 10 साल की लड़की और 12 साल के लड़के का वीडियो बनाया था। वीडियो बनाने के दौरान वह बच्चों के साथ छेड़छाड़ भी करता था। आरोपी बच्चों के वीडियो बनाकर उसे पोर्न साइट पर डाल देता था।

यह भी पढें- डॉक्टर ने अपने ही स्पर्म से 11 महिलाओं को किया गर्भवती, ऐसे हुआ खुलासा

ऐसे चकमा देता था पुलिस को

जानकारी के मुताबिक, आरोपी ने पुलिस से बचने के सारे जुगाड़ कर रखे थे। IP एड्रेस ट्रैक न हो इसके लिए वह Wi-Fi का इस्तेमाल करता था। इतना ही नहीं जब भी वह कोई वीडियो अपलोड करता तो पब्लिक वाई-फाई का यूज करता था। ऐसे में आरोपी को ट्रैक करने में पुलिस को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा लेकिन पुलिस ने उसे उसकी मेल आई-डी से पकड़ ही लिया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story