Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुजरात चुनाव: बीजेपी की बढ़ी मुश्किलें, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर ने थामा कांग्रेस का हाथ

बीजेपी के बाद अब ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है।

गुजरात चुनाव: बीजेपी की बढ़ी मुश्किलें, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर ने थामा कांग्रेस का हाथ

गुजरात में विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले ही गद्दार नेताओं का बड़ी बड़ी पार्टियों में शामिल होना तेज हो गया। बीजेपी के बाद अब ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा कर दी। साथ ही 23 अक्टूबर को इसकी औपचारिक घोषणा भी की जाएगी।

ये भी पढ़ें - तीसरी बार आज गुजरात दौरा पर पीएम मोदी, कई परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन

और वहीं दूसरी तरफ पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के दो अहम सहयोगी वरुण पटेल और रेशमा पटेल शनिवार को बीजेपी पार्टी में शामिल हो गए। जिससे हार्दिक पटेल को झटका लगा है।

गुजरात में ओबीसी वोट बैंक

एक रिपोर्ट के मुताबिक, गुजरात में अन्य पिछ़़डे वर्ग यानी ओबीसी वर्ग 54 फीसदी है। ऐसे में कांग्रेस उसे रिझाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। ओबीसी समुदाय में अल्पेश ठाकोर का खासा प्रभाव माना जाता है। जिससे ओबीसी वर्ग में कांग्रेस अपनी मजबूती करना चाहती है।

बीजेपी का दावा

गुजरात में विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह गांधीनगर की रैली में राज्य की 182 में से 150 सीटें जीतने का दावा कर चुके हैं। राज्य में पिछले 22 साल से कांग्रेस सत्ता से बाहर और बीजेपी का राज है।

कांग्रेस की दावा

वहीं गुजरात में विधानसभा चुनाव में गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी का सीटों को लेकर दावा है कि इस बार पूरे राज्य में उनकी पार्टी 182 सीटों में से 125 सीटें जीतेगी। बता दें कि पटेल-मेवानी जैसे नेताओं का पूरा समर्थन है।

हार्दिक के दो सहयोगी भाजपा में आए

हार्दिक पटेल की पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के दो सदस्य वरुण पटेल व रेशमा पटेल भाजपा में शामिल हो गए। दोनों ने सत्तारू़ढ भाजपा की तारीफ करते हुए कहा कि वे किसी पार्टी के एजेंट के रूप में नहीं बल्कि समुदाय के लिए ल़़ड रहे हैं।

जानें कौन हैं अल्पेश ठाकुर

अल्पेश ठाकुर पाटीदारों को आरक्षण देने का विरोध करते रहे हैं। अल्पेश की ओबीसी वर्ग में अच्छी पैठ है। वह गुजरात सरकार के शराबबंदी के फैसले के पक्षधर रहे हैं।

ओबीसी, एससी और एसटी एकता मंच के संयोजक अल्पेश ठाकुर ने अलग-अलग मंचों से गुजरात की हालत खराब होने की बात कही हैं। गुजरात की आबादी में ओबीसी का हिस्सा 51 फीसदी है। ऐसे में कुल 182 विधानसभा सीटों में से 110 सीटों पर हार-जीत प्रभावित हो सकती है।

गुजरात में दिसंबर में विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव आयोग ने भले ही अभी तक चुनाव की तारीखों की घोषणा नहीं की हो, लेकिन दोनों प्रमुख राजनितिक पार्टियां भाजपा और कांग्रेस इस राज्य में रैली और जनसभा के जरिए अभी से माहौल बना रही हैं।

Next Story
Share it
Top