Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

शहाबुद्दीन पर दर्ज हैं 63 केस, जानिए बिहार के डॉन की पूरी कहानी

मोहम्मद शहाबुद्दीन का जन्म 10 मई 1967 को सीवान जिले के प्रतापपुर में हुआ था।

शहाबुद्दीन पर दर्ज हैं 63 केस, जानिए बिहार के डॉन की पूरी कहानी
नई दिल्ली. आरजेडी के पूर्व सांसद और बिहार के मशहूर डॉन मोहम्मद शहाबुद्दीन भागलपुर जेल से शनिवार को 11 साल बाद जेल से रिहा किया गया। शहाबुद्दीन को रिसीव करने कई विधायक और लगभग 300 गाड़ियां पहुंची। बिहार के इस माफिया, बाहुबली और डॉन को 2005 में जेल भेजा गया था। इसके बाद नीतीश सरकार ने जनता को सुशासन का आश्वाशन दिया था। हरिभूमि आपको बता रहा है बिहार के इस लाल की पूरी कहानी...
ऐसे हुई अपराध की दुनिया में शहाबुद्दीन शुरुआत
मोहम्मद शहाबुद्दीन का जन्म 10 मई 1967 को सीवान जिले के प्रतापपुर में हुआ था। कॉलेज से ही अपराध और राजनीति की दुनिया में कदम रखने वाले शहाबुद्दीन ने बिहार से ही राजनीति में एमए और पीएचडी करने के बाद हिना शहाब से शादी की, जिससे उनको एक बेटा और दो बेटी हुईं। सन 1986 में शहाबुद्दीन के खिलाफ पहला आपराधिक मुकदमा दर्ज हुआ था। इसके बाद उनके नाम कई आपराधिक केस दर्ज किए गए। पहली बार 1990 में जेल में रहते हुए ही निर्दलीय विधायकी का चुनाव जीतने वाले शहाबुद्दीन पर 63 केस दर्ज हैं। शहाबुद्दीन के बढ़ते अपराधों पर लगाम कसने के लिए सीवान पुलिस ने उसे ए श्रेणी का हिस्ट्रीशीटर घोषित कर दिया और फिर उसके बाद शहाबुद्दीन ने अपराध की दुनिया को ही अपनी असली दुनिया बना ली।
शहाबुद्दीन ने ऐसे शुरू की राजनीति
शहाबुद्दीन ने लालू प्रसाद यादव की छत्रछाया में जनता दल की युवा इकाई में उस वक्त कदम रखा जब पार्टी को किसी दबंग और बुलंद सितारे की तलाश थी और शहाबुद्दीन को अपनी ताकत और दबंगई फैलानी थी। पार्टी ने 1990 में विधान सभा का टिकट दिया और शहाबुद्दीन जीत गए। उसके बाद शहाबुद्दीन ने 1995 में फिर से चुनाव जीत कर 1996 में लोकसभा का टिकट हासिल कर इसमें भी अपनी जीत दर्ज कराई। जिसके बाद 1997 में राष्ट्रीय जनता दल के गठन और लालू प्रसाद यादव की सरकार बन जाने से शहाबुद्दीन की ताकत बहुत बढ़ गई।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top