Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारतीय सेना के इस जांबाज ने 1962 में 1300 चीनी सैनिकों को कर दिया था ढेर

जर शैतान सिंह की अगुवाई में 120 भारतीय जवानों ने 1300 सैनिकों को ढेर कर दिया था।

भारतीय सेना के इस जांबाज ने 1962 में 1300 चीनी सैनिकों को कर दिया था ढेर
X

हाल के समय में भारत और चीन के बीच काफी तनातानी चल रही है। चीन धमकी भरे स्वर में भारत को सन 1962 से भी भयंकर परिणाम भुगतने की चेतावनी दे रहा है।

किन्तु चीन मेजर शैतान सिंह के उस कोहराम को कैसे भूल सकता है जो उन्होंने 1962 में चीनी सैनिकों के खिलाफ लद्दाख में मचाया था।

तब इस मेजर के नेतृत्व में लगभग 120 भारतीय सेनाओं की टुकड़ी ने अपने से कई गुणा ज्यादा चीनी सैनिकों को छठी का दूध याद दिला दिया था।

कहानी यू है कि वो 18 नवंबर 1962 की खून जमा देने वाली सर्द रात थी, भारत और चीन के बीच युद्द चल रहा था।

इसे भी पढ़े:- देशभर में जल्द लागू होगी एक समान मजदूरी

तब लद्दाख का तापमान था माइनस 30 डिग्री। लद्दाख के चुशूल घाटी में रिजांग ला एक बेहद अहम पहाड़ी दर्रा है।

समुद्र तल से 16 हजार फीट ऊंचा ये इलाका 3 किलोमीटर लंबा और 2 किलोमीटर चौड़ा है।

लद्दाख पर कब्जा बरकरार रखने के लिए चुशूल घाटी पर भारत का सैनिकों का मौजूद रहना बेहद जरूरी था, लेकिन कई दिनों से दुश्मन की निगाहें इस घाटी पर थी,

और इस घाटी की हिफाजत का जिम्मा दिया गया था 13वीं कुमाऊंनी बटालियन के मेजर शैतान सिंह को।

रात के सन्नाटे में दुश्मन की फौजे गुपचुप इस घाटी की ओर बढ़ रही थीं। तभी मोर्चे पर तैनात भारतीय जवानों को इसकी खबर हो गई।

रात में भारतीय फौजों को दुश्मन सैनिकों की संख्या का अंदाजा नहीं हुआ। इस बीच जब दुश्मन भारतीय मोर्चे से लगभग 700 से 800 मीटर दूर रह गया तो मेजर शैतान सिंह के नेतृत्व में इंडियन आर्मी ने हमला बोल दिया।

कहते हैं उस रात शैतान सिंह चीनियों के लिए सचमुच काल बन गये थे। रात का सन्नाटा, माइनस 30 डिग्री में कांपता शरीर,

लेकिन शरीर के अंदर उबलता देशभक्ति का ज्वार। युद्ध जब शुरू हुआ तो धड़ाधड़ चीनियों की लाशें बिछने लगी।

जब ये युद्ध समाप्त हुआ तो इसके आंकड़े रोंगटे खड़े कर देने वाले थे। 120 जवानों में 114 सैनिक अपनी मातृभूमि के लिए शहीद हो गये।

जो 6 जिंदा बचे उन्हें चीनियों ने कैद कर लिया। लेकिन चीन की ओर का आंकड़ा और भी हैरान कर देने वाला था।

मेजर शैतान सिंह की अगुवाई में 120 भारतीय जवानों ने 1300 सैनिकों को ढेर कर दिया था।

जिन 6 सैनिकों को चीनियों ने पकड़ा था वे भी अपने पराक्रम से चीनी के कैद से भाग निकले। मेजर शैतान सिंह को मरणोंपरांत भारत सरकार ने परमवीर चक्र से नवाजा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story