Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अरुणाचल और असम में वायुसेना ने 200 से अधिक बाढ़ पीड़ितों को बचाया, मेघालय में चेतावनी जारी

वायुसेना ने अरूणाचल प्रदेश के बाढ प्रभावित एक द्वीप में फंसे 19 लोगों को हवाई मार्ग से सुरक्षित बाहर निकाल लिया जबकि असम के धेमाजी जिले से 200 से अधिक लोगों को बचाया।

अरुणाचल और असम में वायुसेना ने 200 से अधिक बाढ़ पीड़ितों को बचाया, मेघालय में चेतावनी जारी
X

अरूणाचल प्रदेश के बाढ प्रभावित एक द्वीप में फंसे 19 लोगों को वायुसेना ने हवाई मार्ग से सुरक्षित बाहर निकाल लिया जबकि असम के धेमाजी जिले से 200 से अधिक लोगों को बचाया गया।

अधिकारियों ने बताया कि भारी बारिश के कारण धेमाजी में सियांग नदी उफान पर है। सियांग नदी चीन से निकलती है। मेघालय के तीन जिलों में भी बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है। सियांग नदी मूल रूप से तिब्बत से निकलती है और चीन में इसे त्संगपो के रूप में जाना जाता है।

यह लोहित और दिबांग नदी के साथ मिलकर असम में ब्रहमपुत्र नदी में तब्दील हो जाती है। पूर्वी सियांग के जिला आयुक्त तामियो तताक ने बताया कि अरूणाचल के पूर्वी सियांग जिले में पिछले 24 घंटों से फंसे 19 लोगों को बचाया गया। जिला प्रशासन के अनुरोध पर वायुसेना ने बचाव अभियान चलाया।

इसे भी पढ़ें- शंघाई जैसा टावर रांची में स्थापित करने पर विचारः रघुवर दास

उन्होंने बताया कि अरूणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने ईटानगर से व्यक्तिगत तौर पर बचाव अभियान पर नजर रखी। उन्होंने बताया कि लोकसभा सांसद निनोंग इरिंग और पासीघाट पश्चिम से विधायक तातुंग जमोह के साथ पुलिस और स्थानीय लोगों ने पशुओं को बचाने में मदद की।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) के जवानों द्वारा बचाये गये 200 अन्य लोग पूर्वी सियांग के निकट धेमाजी में खेती के लिए चले गये थे। सियांग में पानी का स्तर बढ़ने के बाद पूर्वी सियांग और असम में सीमावर्ती धेमाजी, लखीमपुर और डिब्रूगढ़ जिलों में कल अलर्ट जारी किया गया था।

अरुणचाल के विधायक लोंबो तेयांग ने कहा कि पूर्वी सियांग के मेबो क्षेत्र में नदी के किनारे रह रहे करीब 1000 परिवार प्रभावित हुए हैं। तेयांग ने भरोसा दिया कि सभी पुनर्निमाण के लिए एक-एक लाख रुपये दिए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें- पश्चिम बंगालः बिजली गिरने से अलग-अलग जिलों में पांच लोगों की मौत

एक अधिकारी ने बताया कि मेघालय में पश्चमी गारो हिल्स, उत्तरी गारो हिल्स और दक्षिण गारो हिल्स के उपायकुत को सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है। साथ ही अगले 24 घंटों में किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन टीमों को तैयार रहने को कहा गया है।

राजस्व और आपदा प्रबंधन के एक अधिकारी ने तीनों जिलों के उपायुक्तों को भेजे गए एक जरूरी संदेश में कहा है कि "चीन सरकार की ओर से अधिक पानी छोड़े जाने के कारण ब्रह्मपुत्र के जलस्तर अभूतपूर्व वृद्धि हो सकती है।"

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story