Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ऑल इंडिया रेडियो अब ''बलूची'' भाषा में करेगा प्रसारण, टेंशन में पाक

भारत सरकार ने बलूची भाषा में प्रसारण के लिए आकाशवाणी को अनुमति दे दी है।

ऑल इंडिया रेडियो अब
नई दिल्ली. ऑल इंडिया रेडियो (एआइआर) कथित तौर पर जल्द ही बलूची भाषा में कार्यक्रमों के प्रसारण शुरू करने जा रहा है। इसके लिए केंद्र सरकार की मंजूरी भी मिल गई है। एएनआइ के मुताबिक, भारत सरकार ने बलूची भाषा में प्रसारण के लिए आकाशवाणी को अनुमति दे दी है। ये फैसला ऐसे वक्त आया है जब भारत के प्रधानमंत्री मोदी की बलूच के लोगों द्वारा तारीफ की जा रही है। मोदी सरकार पीओके और बलूचिस्तान के मुद्दे पर पाकिस्तान को घेरने की कोशिश कर रही है।
बता दें कि कश्मीर में लगातार जारी हिंसा के पीछे पाकिस्तान का हाथ सामने आने के बाद भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बलूचिस्तान में पाकिस्तान द्वारा किए जा अत्याचारों को पूरी दुनिया के सामने उठाकर उस पर कूटनीतिक दबाव बना दिया था।
फाइनेंसियल एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी के इस कदम को पाक सेना का अत्याचार झेल रहे बलूचों ने हाथों हाथ लिया ‌था। इसके बाद से ही दुनियाभर में बलूचिस्तानी लोग पाकिस्तान और चीन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। बलूचिस्तान में भी अब पाकिस्तान से अलग होने की मांग उठने लगी है।
सरकारी प्रसारणकर्ता ऑल इंडिया रेडियो लगभग सभी भारतीय भाषाओं में कार्यक्रम प्रसारित करता है। वहीं बलूच भाषा में कार्यक्रम प्रसारित करने को एक तरह से बलूचिस्तानी लोगों के समर्थन के तौर पर भी देखा जा रहा है।
पाक ने किया था बलूचिस्तान पर कब्जा
1948 में बलूचिस्चान आजाद देश था। पाकिस्तान में नहीं मिलने पर मोहम्मद अली जिन्ना ने आर्मी भेज कर यहां कब्जा कर लिया था। इस तरह बलूचिस्तान का हिस्सा बन गया, लेकिन उन्हें बाकी पाकिस्तानियों जैसी सुविधाएं और हक नहीं दिए गए। बलूच लोगों में विरोध की चिंगारी उठने लगी। आरोप है कि आंदोलन को दबाने के लिए पाकिस्तानी सेना ने हजारों लोगों का कत्लेआम किया था। कई बलूच नेताओं की हत्या कर दी गई। लेकिन अब मोदी के इस मुद्दे को उठाने पर वहां के लोगों की आशा फिर जगी है। प्रदर्शनों में मोदी की फोटो भी देखने को मिल रही है।
15 अगस्त को मोदी ने किया था पीओके और बलूचिस्तान का जिक्र
15 अगस्त को अपनी स्पीच में मोदी ने पहली बार लाल किले से पीओके और बलूचिस्तान का जिक्र किया था। पीएम ने कहा था कि पिछले कुछ दिनों में बलूचिस्तान और पाक के कब्जे वाले इलाके के लोगों ने जिस तरह से मुझे बहुत-बहुत धन्यवाद दिया है इस पर मैं उनका तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मोदी ने इसके पहले कश्मीर मसले पर ऑल पार्टी मीटिंग में कहा था, 'पीओके भी भारत का हिस्सा है। बलूचिस्तान में पाकिस्तान जो हिंसा कर रहा है, उसके बारे में भी बात होनी चाहिए।' इस पर पीओके और बलूचिस्तान के लोगों ने मोदी का शुक्रिया भी अदा किया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top