logo
Breaking

Citizenship Amendment Bill: AGP ने एनडीए से समर्थन वापस लिया, BJP ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

नागरिकता संशोधन विधेयक (CitizenshipAmendmentBill) के पास होने के बाद असम गण परिषद (AGP) ने असम की एनडीए सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। असम गण परिषद (AGP) असम की एनडीए सरकार में सहयोगी थी और इसके 14 विधायक हैं।

Citizenship Amendment Bill: AGP ने एनडीए से समर्थन वापस लिया, BJP ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

नागरिकता संशोधन विधेयक (CitizenshipAmendmentBill) के पास होने के बाद असम गण परिषद (AGP) ने असम की एनडीए सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। असम गण परिषद (AGP) असम की एनडीए सरकार में सहयोगी थी और इसके राज्य में 14 विधायक हैं।

असम गण परिषद द्वारा असम की एनडीए सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद भाजपा महासचिव राम माधव ने कहा कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि एजीपी ने एनडीए छोड़ने का फैसला किया है, उनकी आशंकाएं सिर्फ आशंकाएं हैं, उनमें कोई सच्चाई नहीं है।

भाजपा महसचिव राम माधव ने कहा कि हम असम के लोगों की पहचान की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। राम माधव ने असम गण परिषद से नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) पर पुनर्विचार करने के की अपीलकी है।

पश्चिम बंगाल: लोकसभा चुनाव 2019 से पहले 'दीदी' को झटका, सांसद सौमित्र खान भाजपा में शामिल

राम माधव राम माधव ने कहा कि हमारी सरकार ने थाई अहोम, चाय-जनजाति और अन्य छह समुदायों को एसटी का दर्जा देने का यह फैसला लिया है। उन्हें एक अलग आदिवासी समूह के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 1980 से यह असम की सरकारों की मांग रही थी।

राम माधव ने कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) कोई राज्य या क्षेत्र विशिष्ट नहीं है। यह पूरे देश के लिए है। पिछले कई दशकों में भारत ने पड़ोस से अल्पसंख्यकों की घटनाओं को देखा है, विशेष रूप से पाकिस्तान और अफगानिस्तान से, भारत आ रहे हैं क्योंकि उनके पास जाने के लिए और कहीं नहीं है।

Loading...
Share it
Top