Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पृथ्‍वी के बाद भारत ने किया स्वदेशी मिसाइल अग्नि-1 का सफल परीक्षण

सतह से सतह तक मार कर सकने वाली अग्नि मिसाइल की रेंज करीब 700 किमी है।

पृथ्‍वी के बाद भारत ने किया स्वदेशी मिसाइल अग्नि-1 का सफल परीक्षण
बालासोर. भारत ने सोमवार को परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम स्वदेशी पृथ्वी दो मिसाइलों का एक के बाद एक त्वरित गति से दो बार सफल प्रक्षेपण किया था। सेना ने यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर स्थित परीक्षण रेंज से किया था। उसके बाद फिर एक बार भारत ने मंगलवार यानि आज मध्यम दूरी की स्वदेशी बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि 1 मिसाइल का सफल टेस्‍ट किया। अग्नि 1 एक बैलेस्टिक मिसाइल है और यह ठोस ईधन से ऑपरेट होती है। सतह से सतह तक मार कर सकने वाली अग्नि मिसाइल की रेंज करीब 700 किमी है। परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम इस मिसाइल का परीक्षण ओडिशा के तटीय हिस्से पर एक परीक्षण रेंज से किया गया।
तीनों सेनाओं में शामिल 'अग्नि'
अग्नि मिसाइल को तीनों सेनाओं में शामिल किया जा चुका है। इसका वजन 12 टन और इसकी लंबाई 15 मीटर है। इस मिसाइल को डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) के एडवांस्‍ड सिस्‍टम्‍स लैबॉरेट्री की ओर से डेवलप किया गया है। डीआरडीओ के अलावा इसमें हैदराबाद के भारत डायनेमिक्‍स लिमिटेड का भी काफी योगदान है।
ये है इस मिसाइल की खासियतें-
इसकी मारक क्षमता 700 से 1200 किलोमीटर तक है। मिसाइल 100 किलो यानी एक क्विंटल तक के पारंपरिक और परमाणु हथियार ले जा सकती है। मिसाइल को रेल और सड़क दोनों प्रकार के मोबाइल लॉन्‍चर्स से फायर किया जा सकता है। अग्नि-1 में स्‍पेशल नेविगेशन सिस्‍टम है जो तय करता है कि मिसाइल सटीक निशाने के साथ अपने लक्ष्य पर पहुंचे। इस मिसाइल का पहला परीक्षण 25 जनवरी 2002 को किया गया था। इसे डेवलप करने में करीब 250-350 मिलियन की लागत आई है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top