Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अडाणी को दुनिया की सबसे बड़ी कोल कंपनी

यह परियोजना दुनिया की सबसे बड़ी खान परियोजनाओं में एक है।

अडाणी को दुनिया की सबसे बड़ी कोल कंपनी

मेलबर्न. भारतीय खनन क्षेत्र की दिग्गज कंपनी अडाणी को आस्ट्रेलिया में उसकी प्रस्तावित 21.7 अरब डालर की विवादास्पद कोयला खनन परियोजना के तहत स्थानीय सरकार ने उत्खनन के तीन पट्टों की मंजूरी दे दी है। लेकिन अडाणी समूह ने कहा है कि वह इनमें निवेश का पक्का निर्णय तभी लेगी जबकि इस विशाल परियोजना के खिलाफ 'राजनीति प्रेरित' कानूनी चुनौतियों का समाधान हो जाएगा। यह परियोजना दुनिया की सबसे बड़ी खान परियोजनाओं में एक है।

ये भी पढ़ें: अमेरिकियों के पास हो भारतीय हैंडसेट: सचिन तेंदुलकर

मीडिया में कहा गया है कि क्वींसलैंड के प्राकृतिक संसाधन एवं खान मंत्री एंटनी लिनहैम ने 70,441 कारमाइकल, 70,505 कारमाइकल पूर्व और 70,506 कारमाइकल उत्तर के लिए व्यक्तिगत लीज आवंटित कर दी है। इनमें 11 अरब टन का तापीय कोयला भंडार होने का अनुमान है।

पर्यावरण के कारण मामला लटका था
परियोजना के लिए अब सरकार के सभी तीनों स्तरों पर अब 19 परमिट और मंजूरियां हैं। इनमें राज्य और संघीय सरकार से 9 प्राथमिक मंजूरियां हैं। लिनहैम ने कहा कि खान का निर्माण शुरू होने से पहले कई और कदमों को भी पूरा किए जाने की जरूरत होगी। अडाणी की दुनिया की सबसे बड़ी कोयला खान विकसित करने की परियोजना के रास्ते में समय-समय पर अड़चन आती रही है। एक संघीय अदालत ने पर्यावरणीय चिंता की वजह से इस परियोजना की मूल मंजूरी को निरस्त कर दिया था।
200 से अधिक शर्ते लगाईं
लिनहैम ने इस बात की पुष्टि की कि अडाणी द्वारा परियोजना के लिए वित्त का प्रबंध किए जाने तक अबॉट पॉइंट पर कोई खुदाई नहीं होगी। इस परियोजना के लिए 200 से अधिक शर्तें लगाई गई है। यदि यह परियोजना आगे बढ़ती है तो यह आस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी कोयला खान परियोजना होगी।
सुरक्षा के लिए कड़ी शर्तें जारी
प्रधानमंत्री ने कहा कि पर्यावरण की सुरक्षा के लिए कड़ी शर्तें जारी रहेंगी। साथ ही भूमि मालिकों, परंपरागत स्वामियों और ग्रेट बैरियर रीफ के हितों का भी संरक्षण किया जाएगा। कंपनी की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि वह मंजूरियों के मामले में सुनिश्चितता चाहता है। उसके हो जाने पर वह दूसरे स्तर की मंजूरिया मिलने पर ध्यान करेगी और उसका लक्ष्य इस परियोजना में 2017 तक निर्माणकार्य शुरू कर देना है।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top