Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नहीं सुलझ पाएगी आरुषि-हेमराज हत्याकांड की गुत्थी, ये है वजह

आरुषि-हेमराज दोहरे हत्याकांड में राजेश और नूपुर तलवार को बरी किए जाने के फैसले को 114 दिन बीत गए हैं।

नहीं सुलझ पाएगी आरुषि-हेमराज हत्याकांड की गुत्थी, ये है वजह
X

आरुषि-हेमराज दोहरे हत्याकांड में राजेश और नूपुर तलवार को बरी किए जाने के फैसले को 114 दिन बीत गए हैं। लेकिन CBI ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अभी तक कोई याचिका दाखिल नहीं की है।

बता दें कि सीबीआई के पास अपील करने के लिए 90 दिन की मोहलत थी लेकिन जांच एजेंसी ने इस समयावधि में कोई याचिका दाखिल नहीं की है।

यह भी पढ़ें- Video: शिक्षक बेटे ने पार की सारी हदें, बुजुर्ग मां को पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट

गौरतलब है कि CBI इस मामले में पूरी तरह परिस्थितिजन्य साक्ष्य पर ही दलील पेश कर रही थी, जो दलील हाईकोर्ट में नहीं टिक पाई और तलवार दंपती को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 12 अक्टूबर 2017 को बरी कर दिया था।

लेकिन अब जब इस मामले में सीबीआई की तरफ से तय अवधि में कोई अपील दाखिल नहीं की गई है तो लोगों के मन में यह सवाल उठने लगे हैं कि क्या आरुषि-हेमराज हत्याकांड मामला सुलझ पाएगा। यही सवाल तलवार दंपती को रिहाई के समय भी लोगों ने उठाए थे।

बता दें कि सीबीआई ने भले ही अपील संबंधी कोई फैसला नहीं लिया है लेकिन मृतक हेमराज की पत्नी खुमकला बंजाडे ने सुप्रीम कोर्ट में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका दाखिल की है।

इस याचिका में कहा गया है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला गलत है। हाईकोर्ट ने इस मामले को हत्या तो माना लेकिन किसी को दोषी नहीं ठहराया। इसलिए सीबीआई की यह जिम्मेदारी है कि वह हत्यारों का पता लगाए।

यह भी पढ़ें- 400 भक्त नपुंसक मामला: राम रहीम के खिलाफ CBI ने दायर की चार्जशीट

क्या है मामला

गौरतलब है कि मई 2008 को नोएडा के जलवायु विहार इलाके में 14 साल की आरुषि का शव उसके मकान में बरामद हुआ था। पहले तो इस मर्डर की शक की सुई नौकर हेमराज की ओर गई लेकिन 2 दिन बाद घर की छत पर उसका भी शव बरामद किया गया। उस समय उत्तर प्रदेश की तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने मामले की जांच CBI को सौंपी थी।

इसके बाद मामले में विशेष सीबीआई कोर्ट ने 26 नवंबर, 2013 को आरुषि के डॉक्टर पैरेंट्स राजेश और नूपुर को उम्रकैद की सजा सुनाई थी, लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीबीआई कोर्ट का फैसला पलट दिया और उन्हें बरी कर दिया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story