Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आरुषी-हेमराज मर्डर केस: SC में हेमराज की पत्नी की याचिका मंजूर, HC के फैसले की होगी समीक्षा

नोएडा के चर्चित आरुषि-हेमराज हत्याकांड में सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने हेमराज की पत्नी की याचिका मंजूर कर ली है।

आरुषी-हेमराज मर्डर केस: SC में हेमराज की पत्नी की याचिका मंजूर, HC के फैसले की होगी समीक्षा

नोएडा के चर्चित आरुषि-हेमराज हत्याकांड में सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने हेमराज की पत्नी की याचिका मंजूर कर ली है। इस याचिका में हेमराज की पत्नी खुमकला बेंजाडे द्वारा तलवार दंपति की रिहाई के खिलाफ और हाईकोर्ट के फैसले पर विचार की याचिका दायर की गई थी।

सुप्रीम कोर्ट ने हेमराज की पत्नी की याचिका मंजूर करते हुए कहा है कि कोर्ट अब इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की छानबीन करेगा। दरअसल, हेमराज की पत्नी द्वारा दाखिल याचिका में कहा गया है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ये तो माना है कि हेमराज और आरुषि की हत्याएं तो हुईं लेकिन कोर्ट ने किसी को दोषी नहीं करार दिया और तलवार दंपति को रिहा कर दिया।

यह भी पढ़ें- मेट्रो किराए में इन यात्रियों को मिलेगी छूट, ये है सरकार का प्लान

हेमराज की पत्नी कोर्ट के इस फैसले से नाखुश थीं और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की थी। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को मंजूर कर लिया है।

गौरतलब है कि निचली अदालत ने आरुषि-हेमराज हत्याकांड में तलवार दंपति को दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी। लेकिन इलाहाबाद हाइकोर्ट ने इस फैसले को पलटते हुए उन्हें रिहा कर दिया था।

वहीं सुप्रीम कोर्ट में दाखिल विशेष अनुमति याचिका में CBI द्वारा कहा गया है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले में कई खामियां है। जबकि निचली कोर्ट ने जो फैसला दिया था वो अच्छी तरह सोच-विचार कर सबूतों के आधार पर दिया था।

साथ ही इस याचिका में यह भी कहा गया है कि निचली अदालत ने परिस्थितिजन्य सबूतों के आधार पर जो फैसला सुनाया था उसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में फिर दिखा नक्सलियों का तांडव, ठेकेदार की हत्या कर वाहनों में लगाई आग

हाईकोर्ट ने मामले को लेकर 273 पेज के अपने फैसले में कहा था कि गलत विश्लेषण के जरिए निचली अदालत पहले ही मान बैठा था कि राजेश और नुपुर तलवार ने ही हत्या की है।

15 और 16 मई 2008 को नोएडा के जलवायु विहार के फ्लैट नंबर एल 32 में आधी रात आरुषि-हेमराज के साथ क्या हुआ उसका निजली कोर्ट के जज ने फिल्म डायरेक्टर की तरह काल्पनिक तरीके से वर्णन किया। वहीं इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यह भी कहा कि तलवार दंपति पर लगाए गए आरोपों के बदले सीबीआई कोई भी सबूत पेश नहीं कर पाई।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top