Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भाजपा और कांग्रेस में एक बड़ा फर्क ''महिलाओं'' के सम्मान को लेकर है: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को ''महिला विरोधी'' बताया और कहा कि वह कांग्रेस में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाना चाहते हैं।

भाजपा और कांग्रेस में एक बड़ा फर्क महिलाओं के सम्मान को लेकर है: राहुल गांधी
X

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को 'महिला विरोधी' करार देते हुए कहा कि वह कांग्रेस में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाना चाहते हैं। राहुल के अनुसार, वे चाहते हैं कि आने वाले पांच सात साल में पार्टी के मुख्यमंत्रियों में से आधी महिलाएं हों।

चुनावी दौरे पर आये राहुल महिला कांग्रेस के राज्य स्तरीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस तो चाहते ही नहीं कि महिलाएं घर से निकलें या प्रगतिशील हों जबकि कांग्रेस पार्टी और संगठन के तौर पर महिलाओं को प्रोत्साहित कर रही है।

कांग्रेस पार्टी तथा भाजपा-आरएसएस में अंतर का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि एक बड़ा फर्क तो 'धर्म निरपेक्षता' का जरूर है लेकिन सबसे बड़ा अंतर पुरूष समाज में महिला की जगह को लेकर है।

इसे भी पढ़ें- आंध्र प्रदेश: जगन मोहन रेड्डी पर नुकीले हथियार से हमला, एयरपोर्ट कर्मचारी गिरफ्तार

उन्होंने कहा कि भाजपा आरएसएस के लोग कहते हैं कि महिलाओं को घर से नहीं निकलना चाहिए, महिलाओं को प्रगतिशील नहीं होना चाहिए, महिलाओं को संगठन में जगह नहीं मिलनी चाहिए।

राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में वह पार्टी संगठन व पार्टी की ओर से चुने जाने वाले जनप्रतिनिधियों की संख्या में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि मैं कांग्रेस का अध्यक्ष होने के नाते पार्टी में दो तीन बड़े बदलाव लाना चाहता हूं।

राहुल ने कहा कि मेरा लक्ष्य है कि इस संगठन में महिलाओं को सही जगह दिलवाऊं। मैं चाहता हूं कि हर राज्य में, मंचासीन नेताओं की सूची में चाहे वह मुख्यमंत्रियों की सूची हो, चाहे वे महासचिवों की सूची हो, चाहे वह मंत्रियों, प्रधानों, एमएलए, एमपी की सूची हो उसमें कम से कम 30 ...35 .. 40 प्रतिशत महिलाओं के नाम हों।

इसे भी पढ़ें- INX मीडिया केस: दिल्ली हाई कोर्ट ने चिदंबरम की गिरफ्तारी पर 29 नवंबर तक लगाई रोक

उन्होंने कहा कि जीतने की क्षमता (विनेबिलिटी) अगर कोई कसौटी है तो उनका मानना है कि महिलाएं भी जीत सकती हैं और पार्टी राजस्थान, मध्य प्रदेश तथा छत्तीसगढ़ के चुनाव में सक्षम, कर्मठ महिला कार्यकर्ताओं को विधानसभा भेजेगी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में वे महिलाओं की वकालत करने उनका पक्ष लेने को तैयार हैं लेकिन महिलाओं को भी राजस्थान, मध्यप्रदेश सहित सभी राज्यों में काम करना होगा।

राहुल गांधी ने कहा कि मैंने फैसला कर लिया है कि हर राज्य में पहले जिलापरिषद, प्रधान के स्तर पर महिलाओं को बढावा दिया जाएगा। इसके बाद विधायक और सांसद स्तर पर आपको प्रवेश दिलाया जाएगा। उसके बाद मैं चाहता हूं कि आज से चार पांच.. छह.. सात साल बाद हमारे 50 प्रतिशत मुख्यमंत्री महिला हों।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story