Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यूपी चुनाव: बढ़ सकता है दागियों का ग्राफ, 81 फीसदी पर दर्ज हैं संगीन मामले

अभी तक पांच चरणों के संपन्न हुए चुनावों में सियासी दलों ने 1166 यानि करीब 32 फीसदी करोड़पति प्रत्याशियों पर दांव खेला है।

यूपी चुनाव: बढ़ सकता है दागियों का ग्राफ, 81 फीसदी पर दर्ज हैं संगीन मामले
नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की विधानसभा के लिए आज सोमवार को संपन्न हुए पांचवे चरण के चुनाव में 403 में से 313 सीटों पर 3673 प्रत्याशी अपनी किस्मत ईवीएम में कैद करा चुके हैं, जिनमें 1784 यानि 48.58 फीसदी दागियों और अमीरों ने दांव आजमाया है। चुनावी जंग में अपनी किस्मत आजमाते ऐसे प्रत्याशियों से ऐसी संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता कि इस बार यूपी विधानसभा में दागियों और अमीरों का ग्राफ बढ़ेगा।
यूपी के पहले पांच चरणों में कुल 313 सीटों पर अपनी किस्मत आजमा चुके 3673 उम्मीदवारों में प्रमुख दलों भाजपा, सपा, बसपा, कांग्रेस, रालोद, सीपीआई, सीपीआईएम, राकांपा के प्रत्याशियों के अलावा 1288 यानि 35.1 फीसदी प्रत्याशियों ने पंजीकृत गैर मान्यता प्राप्त दलों के बैनर पर चुनाव लड़ा है, जबकि इन पांच चरणों में 1146 यानि 31.20 फीसदी निर्दलीय रूप से अपनी किस्मत आजमा रहे है। जिन प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हो चुका है उनमें 365 यानि 9.94 फीसदी महिलाएं भी शामिल हैं। इनमें शामिल 618 यानि 16.83 फीसदी दागियों और 1166 यानि 31.75 फीसदी अमीरों का दांव इस बार यूपी विधानसभा की तस्वीर दागदार कर सकता है। राजनीतिक विशेषज्ञों की माने तो गरीबों के हितों और कानून व्यवस्था दुरस्त करने के दावे कर सत्ता में आने का प्रयास कर रहे राजनीतिक दल ऐसे उम्मीदवारोें के सहारे कैसे साफ-सुधरी सरकार दे सकते हैं। राजनीतिक जानकारों का तो यहां तक कहना है कि यदि किसी तरह ईवीएम में अपनी किस्मत कैद करा चुके संगीन मामलों में लिप्त 82 फीसदी यानि 500 उम्मीदवारों में आधे भी जीतते हैं तो उत्तर प्रदेश का भविष्य किस दिशा में जाएगा यह वक्त ही बता सकेगा।
81 फीसदी पर संगीन मामले
उत्तर प्रदेश में पिछले चुनाव में 16वीं विधानसभा के गठन के लिए हुए चुनाव में 403 सीटों पर विभिन्न दलों ने 759 दागियों पर दांव खेला था, जिनमें से सपा के 111 समेत कुल 189 अपराधिक छवि वाले विधायक निर्वाचित हुए थे। इस बार अभी तक पांच चरणों की 313 सीटों पर 618 दागी उम्मीदवार अपनी किस्मत ईवीएम में कैद करा चुके हैं, जिनमें 500 यानि करीब 81 फीसदी ऐसे दागी हैं जिनके खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, बलात्कार, अपहरण जैसे संगीन मामलों में मुकदमें दर्ज हैं। मसलन सात चरणों में होने वाले चुनावों में आज सोमवार को 51 सीटों पर हुए चुनाव समेत पांच चरणों में 313 सीटों के लिए ईवीएम में अपनी तकदीर कैद करा चुके 3673 प्रत्याशियों में ऐसे दागी उम्मीदवार भी शामिल हैं।
दागियों से ज्यादा धनकुबेर
उत्तर प्रदेश की विधानसभा के लिए अभी तक पांच चरणों के संपन्न हुए चुनावों में सियासी दलों ने 1166 यानि करीब 32 फीसदी करोड़पति प्रत्याशियों पर दांव खेला है। पहले चरण में 73 सीटों पर 839 उम्मीदवारों में से 302 यानि 36 फीसदी, तो दूसरे चरण के चुनाव में भी 721 प्रत्याशियों में 36 फीसदी यानि 256 करोड़पति, तीसरे चरण में 826 में से 250, चौथे चरण के चुनाव में 680 में से 189 तथा पांचवे चरण में 607 में 168 करोड़पति प्रत्याशी चुनावी महासंग्राम का हिस्सा बन चुके हैं। पांचों चरणों के चुनाव में बसपा ने सबसे ज्यादा 268, भाजपा ने 246, सपा ने 194, रालोद ने 84 व कांग्रेस ने 62 धनकुबेरों को प्रत्याशी बनाकर चुनावी दांव खेला है। जबकि 142 करोड़पति प्रत्याशी निर्दलीय रूप से अपनी किस्मत आजमाकर यूपी विधानसभा में दाखिल होने का प्रयास कर चुके हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top