Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

विदेशी जेलों में 7,620 भारतीय पीस रहे हैं चक्की, सबसे ज्यादा हैं इस मुस्लिम कंट्री में

सरकारी आंकड़े के मुताबिक, विदेशों की 86 जेलों में बंद हैं भारतीय नागरिक।

विदेशी जेलों में 7,620 भारतीय पीस रहे हैं चक्की, सबसे ज्यादा हैं इस मुस्लिम कंट्री में
X

भारत के 7,620 नागरिक विदेशी जेलों में सजा काट रहे हैं। सरकार द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक, सबसे ज्यादा भारतीय सऊदी अरब की जेल में कैद हैं।

बुधवार को लोकसभा में उठे एक सवाल का के जबाव में विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर ने बताया कि कई देशों में कठोर निजी कानूनों के कारण लोकल ऑथिरिटी कैंदियों से जुड़ी कोई भी सूचनाएं तब तक साझा की जाती जब तक वह व्यक्ति इसकी अनुमति न दे दे।

इसे भी पढ़ें: वेंकैया नायडू की जीत पर पीएम मोदी से लेकर सोनिया गांधी तक ने दी बधाई

जिसके बाद एम जे अकबर ने बताया कि 2004 में कैदियों को उनके देश भेजने संबंधी कानून के बनने के बाद लगभग 170 आवेदन आए हैं। जिसमें से 62 भारतीयों को देश लाया गया है। अब तक भारत ने 30 देशों के साथ समझौता किया है, जिसके तहत कई भारतीयों को वापस लाया गया है।

बता दें ,एक सरकारी आंकड़े के मुताबिक विदेशों की 86 जेलों में करीब 7,620 भारतीय नागरिक सजा काट रहे हैं। जिसमें सबसे ज्यादा 2,084 लोग सऊदी अरब की जेलों में बंद हैं।

7,620 कैंदियों में से दक्षिण-पूर्वी एशिया, श्रीलंका, चीन, नेपाल और खाड़ी देशों की 50 महिलाएं इन जेलों में कैद हैं। श्रीलंका की जेलों में भारतीय मछुआरें बहुत लंबे समय से सजा काट रहे हैं।

बताते चलें की जो भारतीय श्रीलंका में सजा काट रहे उन पर सीमा को पार करने के आरोप लगे हैं। जबिक तमिलनाडु के रहने वाले लोग बांग्लादेश, ब्रूनेई और भूटान की जेलों में सजा काट रहे हैं। कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में 115 कैदी हैं, जिनपर हत्या, मनी लॉन्ड्रिग और रोड एक्सिडेंट के मामले दर्ज हैं।

इसे भी पढ़ें:- 1962 के युद्ध से मजबूत है भारतीय सेना: अरुण जेटली

विदेशी जेलों में बंद भारतीय कैदियों में से 56 प्रतिशत लोग खाड़ी देशों से हैं, जिन पर रिश्वत, चोरी के आरोप लगे हैं। मिली जानकारी जानकारी के अनुसार, सऊदी अरब में शराब पीना, बेचना और बनाना एक कानूनी अपराध माना जाता है और सऊदी अरब में कुछ लोग शराब पीने की वजह से जेलों में सजा काट रहे हैं।

इसके अलावा भी कुछ भारतीय नागरिक ड्रग्स और मानव तस्करी और वीजा संबंधी मामलों के चलते दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों जैसे थाईलैंड, मलेशिया और सिंगापुर की जेलों में कैद हैं। यूरोपियन देश अपने यहां कैद भारतीयों का जानकारी साझा नहीं करते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top