Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गणतंत्र दिवस: झांकी में दिखेगी ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ की झलक

परेड में हरियाणा के अलावा 16 राज्यों की झांकियों का चयन किया गया है।

गणतंत्र दिवस: झांकी में दिखेगी ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ की झलक
नई दिल्ली. इस बार गणतंत्र दिवस परेड में 17 राज्यों की झांकियों का चयन किया गया है। इसमें हरियाणा भी शामिल है। झांकी में लड़कियों के सशक्तिकरण पर खासा जोर दिया गया है। इसलिए उसकी थीम भी ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ रखी गई है। यहां रक्षा मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक हरियाणा में पहले के समय में यह चलन देखने को मिलता था कि लड़कियों को उच्च-शिक्षा नहीं दी जाती थी और उनकी जल्दी शादी कर दी जाती थी। इतना ही नहीं आज के समय में भी महिलाआें को भेदभाव की वजह से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। हरियाणा में कई गांवों में आज भी घरों में लड़कियों के साथ लड़कों की तरह व्यवहार नहीं किया जाता, उन्हें प्राथमिक विद्यालयों से आगे पढ़ाया भी नहीं जाता है। इतना ही नहीं लड़कियों को गर्भ में भी मारा जाता है। अगर लड़की अपने भाग्य से बच भी जाए, तो उसके साथ शारिरिक शोषण और दहेज के नाम हत्या कर दी जाती है। परेड में केंद्र सरकार के 6 मंत्रालयों की झांकियां भी नजर आएंगी।
आगे बढ़ती हरियाणा की लड़कियां
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपने भाषणों और अलग-अलग मौकों पर दिए गए बयानों में लड़कियों की शिक्षा और उनके विकास को बढ़ाने पर जोर दिया है। इसे लेकर हरियाणा में कई प्रयास शुरू हो चुके हैं, जिससे महिलाआें की भागीदारी में भी इजाफा हुआ है और उनके सशक्तिकरण में भी मदद मिली है। आज महिलाएं शिक्षा, खेलकूद और अन्य क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रही हैं।
अगले साल परेड में होंगे मप्र, छग
यहां परेड में सेना की भागीदारी को लेकर आयोजित एक कार्यक्रम में दिल्ली एरिया के चीफ आॅफ स्टाफ मेजर जनरल राजेश सहाय ने कहा कि यह सही है कि इस बार केंद्रीय भारत के दो अहम राज्य छत्तीसगढ़ और मध्य-प्रदेश की झांकियों को गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा नहीं बनाया गया है। लेकिन इसके पीछे रक्षा मंत्रालय की चयन प्रक्रिया की अहम भूमिका होती है। इसमें हर साल किसी न किसी को मौका मिलता है। बीते वर्ष छत्तीसगढ़ की झांकी परेड में शामिल थी। हो सकता है कि अगले वर्ष दोनों राज्य फिर से परेड की झांकियों की सूची में शामिल हो जाएं। यही प्रक्रिया सेना के मार्चिंग दस्तों पर भी लागू होती है। जैसे कभी मद्रास रेजीमेंट को मौका मिला है, तो उसके अगले वर्ष सेना की कोई और रेजीमेंट और उसके जवान परेड में कदमताल करते हुए नजर आते हैं।
परेड में शामिल अन्य राज्य
परेड में हरियाणा के अलावा 16 राज्यों की झांकियों का चयन किया गया है। इसमें गुजरात, गोवा, महाराष्ट्र, ओड़िशा, अरूणाचल, मणिपुर, लक्षद्वीप, कर्नाटक, दिल्ली, हिमाचल-प्रदेश, पश्चिम-बंगाल, पंजाब, तमिलनाडु, त्रिपुरा, जम्मू-कश्मीर और असम शामिल हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top