Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोविंद ने संभाली राष्ट्रपति पद की कमान, भूख हड़ताल पर बैठे 300 दलित परिवार

इसके पहले रामनाथ कोविंद बिहार के राज्यपाल रह चुके हैं।

कोविंद ने संभाली राष्ट्रपति पद की कमान, भूख हड़ताल पर बैठे 300 दलित परिवार
X

भारत के 14 वें राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को शपथ ली। इसके पहले रामनाथ कोविंद बिहार के राज्यपाल भी रह चुके हैं।

रामनाथ कोविंद उत्तर प्रदेश के एक गरीब दलित परिवार में पैदा हुए और उन्होंने बड़े संघर्षों के साथ राष्ट्रपति भवन तक का सफर तय किया है।

रामनाथ कोविंद के राष्ट्रपति बनने के बाद लोग ये उम्मीद कर रहे है कि देश भर में दलितों पर कथित रूप से हो रहे अत्याचार कम हो जाएंगे।

इसे भी पढ़ें- कोई भी जीते राष्ट्रपति दलित ही होगा, यह बाबा साहेब की देन हैः मायावती

लेकिन इसी बीच आंध्र प्रदेश के कुछ दलित कथित रूप से उन पर हो रहे अत्याचारों से नाराज होकर अनिश्चित काल के लिए हड़ताल पर बैठ गए है।

इंडिया टुडे कि एक रिपोर्ट के मुताबिक आंध्र प्रदेश के पश्चिमी गोदावरी जिले के एक गांव गरागापारु के करीब 300 दलित परिवार उच्च जाति द्वारा बहिष्कार से नाराज है।

इन दलित समुदाय के करीब 300 परिवारों के सदस्यों ने ऊंची जाती द्वारा सामाजिक बहिष्कार के विरोध में ये कदम उठाया है।

इसे भी पढ़ें- BJP अध्यक्ष अमित शाह कच्ची बस्ती में घूमे पैदल

बताया जाता है कि ये सभी लोग माला समुदाय से ताल्लुक रखते है। आंध्र में इस जाती को अनुसूचित जाति का दर्जा दिया हुआ है।

जानकारी के मुताबिक 24 अप्रैल को माला समुदाय के लोगों ने भीमराव अंबेडकर का पुतला लगाया था।

लेकिन गांव में रहने वाले उच्च जाती के लोगों ने कथित रुप से इसका विरोध किया था। इसके बाद कुछ अज्ञात लोगों ने अंबेडकर की इस मूर्ति को हटा दिया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story