Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

1993 मुंबई ब्लास्ट: 25 साल बाद भी नहीं भरे जख्म, देखिए हमले की दर्दनाक तस्वीरें

हमले के 48 घंटे बाद पुलिस ने केस सुलझा दिया था। जिसके बाद डीसीपी राकेश मारिया के नेतृत्व में 150 लोगों की टीम भी बनी थी। इसमें अहम सुराग था, माहिम में खड़ा एक स्कूटर जिसमें बम तो था पर विस्फोट नहीं हुआ था।
Next Story