Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

1965 का युद्ध: पाक को उठाना पड़ा बड़ा नुकसान

28 अगस्त से 22 सितंबर तक पहले भारत-पाक युद्ध के 50 साल पूरा होने पर गोल्डन जुबली मनाई जा रही है।

1965 का युद्ध: पाक को उठाना पड़ा बड़ा नुकसान

नई दिल्ली. 1965 का युद्ध भारत और पाकिस्तान की वायुसेनाओं के बीच पहली लड़ाई थी। दोनों देशों की वायुसेनाओं की लड़ाई को कुल मिलाकर देखें तो यह मालूम पड़ता है कि दोनों पक्षों में से किसी को भी निर्णायक जीत हासिल नहीं हुई।

ये भी पढ़ें : वन रैंक वन पेंशनः पूर्व सैनिकों के साथ हड़ताल पर बैठीं सेना अध्यक्ष वीके सिंह की बेटी

इंडियन एयरफोर्स की ओर से जारी की गई किताब 'द डुएल्स ऑफ द हिमालयन ईगल: द फस्र्ट इंडो-पाक एयर वॉर' एक सितंबर को जारी की जा रही है। भारतीय वायुसेना की ओर से यह किताब एयर मार्शल (रिटायर्ड) भारत कुमार ने लिखी है।

ये भी पढ़ें : NSA TALKS: बातचीत से भागा पाक, भारत नहीं आएंगे सरताज अजीज

युद्ध के दौरान वह एक नौजवान फाइटर पायलट थे। 28 अगस्त से 22 सितंबर तक पहले भारत-पाक युद्ध के 50 साल पूरा होने पर गोल्डन जुबली मनाई जा रही है। भारत के पास 28 लड़ाकू स्क्वाड्रन थे जबकि पाकिस्तान के पास महज 11 और इस लिहाज से भारतीय वायुसेना की ताकत ज्यादा थी लेकिन उसके पास कमतर दर्जे के लड़ाकू विमान थे। पाकिस्तानी वायुसेना ने भारत पर उस समय हमला बोला जब वह सामना करने को तैयार नहीं था।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Share it
Top