Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बड़ी खबर: 10 लाख बैंक कर्मी दो दिन की हड़ताल पर, अरबों के नुकसान की उम्मीद, पढ़ें ये रिपोर्ट

देश भर के सरकारी बैंक आज से 2 दिन की राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर बैठे है। जिससे 2 दिनों तक आम आदमी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। 2 दिनों की इस हड़ताल की वजह से बैंक के एटीएम भी खाली हो सकते है।

बड़ी खबर: 10 लाख बैंक कर्मी दो दिन की हड़ताल पर, अरबों के नुकसान की उम्मीद, पढ़ें ये रिपोर्ट

देश भर के सरकारी बैंक आज से 2 दिन की राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर बैठे है। जिससे 2 दिनों तक आम आदमी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। 2 दिनों की इस हड़ताल की वजह से बैंक के एटीएम भी खाली हो सकते है।

इस महाहड़ताल में करीब 10 लाख बैंक कर्मचारी शामिल होंगे। इस हड़ताल में 21 सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंक,पुरानी पीढी के बैंक और विदेशी बैंकों के 10 लाख कर्मचारी 2 दिनों की हड़ताल पर रहेंगे। बैंक संघटन अपने बैंक कर्मचारियों के वेतन में केवल 2 प्रतिशत ईजाफे के प्रस्ताव बेहद नाराज है।

इस हड़ताल में यूनाइटेड फोर ऑफ बैंक यूनियंस से जुड़ी सभी 9 बैंक यूनियनों साथ है। इन सभी का मानना है कि बैंक कर्मचारियों के वेतन में ईजाफा 2017 से लटका हुआ है। कर्मचारी लगातार वेतन में ईजाफे की मांग कर रहे है।

जब हमने अपनी मांगे बैंकिंग प्रबंधन के सामने रखी तो उन्होंने वेतन में ईजाफे से हाथ खड़े कर दिये और जब वेतन में ईजाफे की मांग मानी गई तो वह भी बस 2 प्रतिशत का ईजाफा। यह बैंकिंग कर्मचारियों के साथ मजाक है। जो रात-दिन मेहनत करता है।

बैंकिंग संघटनों का कहना है कि इंडियन बैंक्स एसोसिएशन ने वेतन में 2 प्रतिशत ईजाफे का प्रस्ताव रखा। जो कि बैंक कर्मचारियों के साथ भद्दा मजाक है। इसे बैंक यूनियनों ने मानने से साफ इनकार कर दिया।

प्रबंधन ने हमसे कहा कि इस समय सरकारी बैंक किसी भी हालात में वेतन में ईजाफा नहीं कर सकते। पर हमने उनको बताया कि कैसे आपको इन 2 सालों में दुगना फायदा हुआ है तो उन्होंने आश्वासन दिया की हम सोचते है। पर अभी तक कोई भी ठोस कदम नहीं उठाये गई।

बैंकिंग यूनियनों का कहना है कि कर्मचारियों को उनकी मेहनत के आधार पर वेतन मिलना चाहीए, ना कि बैंकों के मुनाफे से आधार पर नहीं। बैंक अगर मुनाफा कमा रहे है तो सिर्फ इन मेहनती कर्मचारियों की वजह से और अगर नुकसान उठा रहे है तो वह एनपीए की वजब से। जिसका संबंध बैंक के आम कर्मचारी से नहीं है।

लोगों को आ सकती है बड़ी दिक्कते

यह बैंक हड़ताल महीने के आखिर में हो रही है। जिस से लोगों को पैसो की भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसका असर प्राईवेट बैंको पर भी होगा। वहां लोगों की लंबी लाईन देखने को मिल सकती है। इस बैंक हड़ताल का असर लोगों के व्यापार, इंडस्ट्री पर भी होगा। भारत से सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने भी माना है कि इसका असर सबी बैंकिंग सेवाओं पर होगा।

मोदी सरकार की नोटबंदी जैसी योजना भी है हड़ताल की वजह

बैंक यूनियनों का कहना है कि मोदी सरकार की जन-धन योजना,अटल पेंशन योजना, नोटबंदी और मुद्रा योजना से बैंक कर्मचारियों पर काम का बोझ काफी बढ़ा है। नोटबदी के दौरान कई बैंक कर्मचारियों की काम के प्रेशर में मौत तक हो गई और जो कर्मचारियों को नुकसान हुए वो अलग।

सरकार की इन सभी महत्वकांशी योजनाओं को सुचारू रुप से चलाने में और इन योजनाओं को सफल बनाने में बैंक कर्मचारियों की मेहनत है। पर इतना करने के बाद भी उनके वेतन में सिर्फ 2 फिदसी ईजाफा के निर्यण से बैंक कर्मचारियों को भारी धक्का लगा है।

कौन-कौन संघटन है शामिल

इस हड़ताल में देश भर की सभी सरकारी बैंक यूनियन मिली हुई है। जिसमें यूनाइटेड फॉरम ऑफ बैंक यूनियन में बैंकों की 9 यूनियन शामिल है। जिसमें ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कंफेडरेशन,ऑल इंडिया बैंक इम्प्लॉइज एसोसिएशन औऱ नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स शामिल है। भारतीय स्टेट बैंक,पंजाब नेशनल बैंक जैसे सरकारी बैंक इस हड़ताल के चलते बंद रहेंगे।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top