Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानिए देश का पहला सैटेलाइट आर्यभट्ट बनाने वाले वैज्ञानिक यू.आर राव की जिंदगी की 10 खास बातें

उनके नेतृत्व में में देश के पहले भारतीय उपग्रह ''आर्यभट्ट'' से लेकर 20 से अधिक उपग्रहों को डिजाइन किया गया था।

जानिए देश का पहला सैटेलाइट आर्यभट्ट बनाने वाले वैज्ञानिक यू.आर राव की जिंदगी की 10 खास बातें
X

देश के महान अंतरिक्ष वैज्ञानिक प्रोफेसर यूआर राव का रविवार रात ढाई बजे निधन हो गया है। राव कई दिनों से बीमार चल रहे थे। दिल कि बीमारी के कारण वह कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी उनके निधन पर दुःख जताया और ट्विटर पर लिखा कि भारत के अंतरिक्ष प्रोग्राम में राव का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

आइए आज हम आपको बताते हैं अंतरिक्ष वैज्ञानिक प्रोफेसर यूआर राव के बारे में 10 अनसुनी बातें जिनके नेतृत्व में ही 1975 में देश के पहले भारतीय उपग्रह 'आर्यभट्ट' से लेकर 20 से अधिक उपग्रहों को डिजाइन किया गया था।

1. महान अंतरिक्ष वैज्ञानिक यूआर राव 10 मार्च 1932 को कर्नाटक के अडामारू में एक साधारण परिवार से परिवार में पैदा हुए थे।

2. महान अंतरिक्ष वैज्ञानिक यूआर राव ने इसरो के अध्यक्ष के तौर पर कार्य किया और अंतरिक्ष सचिव के पद पर भी आसीन रहे।

3. इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉटिकल फेडरेशन ने यूआर राव को प्रतिष्ठित द 2016 आईएएफ हॉल ऑफ फेम में जगह दी।

4. जबकि सोसायटी ऑफ सेटेलाइट प्रोफेशनल्स इंटरनेशनल ने 2013 में राव को सेटेलाइट हॉल ऑफ फेम, वाशिंगटन में जगह दी थी।

5. यूआर राव ने अहमदाबाद की भौतिक विज्ञान प्रयोगशाला के संचालन परिषद के अध्यक्ष राव रहे।

6. राव ने 1960 में ही अपने कॅरियर की शुरुआत से ही भारत में स्पेस टेक्नोलॉजी के विकास पर जोर दिया।

7. राव ने भारत की अंतरिक्ष और उपग्रह क्षमताओं के निर्माण में काफी योगदान दिया।

8. उन्होंने 1972 में भारत में उपग्रह प्रौद्योगिकी की स्थापना हेतु आर्यभट्ट से लेकर मार्स ऑर्बिट मिशन के लिए काम किया।

9. अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में उनके अभूतपूर्व योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें 1976 में पद्म भूषण से नवाजा।

10. उन्होंने 1985 में अंतरिक्ष विभाग में काम करना शुरू किया और उनके नेतृत्व में भारत ने रॉकेट टेक्नोलॉजी का विकास किया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story