Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मंदसौर: रिहा हुए राहुल गांधी, किसानों के परिवारों से राजस्थान बॉर्डर पर मिले

राहुल गांधी पुलिस को चकमा देकर बाइक से मंदसौर जा रहे थे।

मंदसौर: रिहा हुए राहुल गांधी, किसानों के परिवारों से राजस्थान बॉर्डर पर मिले
X

मंदसौर में किसान पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को नीमच गिरफ्तार कर लिया गया, जिसके बाद उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया। रिहाई के बाद राहुल ने एमपी-राजस्थान के बॉर्डर पर पीड़ितों के परिवार वालों से मुलाकात की।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के मंदसौर में चल रही हिंसा के बाद राजनीति गलियारे तेजी से गरमा गया। आंदोलन प्रदर्शन और आगजनी के बाद तमाम राजनीतिक पार्टियां इसमें दिलचस्पी ले रही हैं। नीमच में राहुल गांधी को हिरासत में ले लिया गया था।

राहुल गांधी यहां मृतक किसानों के परिजनों से मुलाकात करने के लिए बाइक पर सवार होकर पहुंचे थे। लेकिन इस बीच उनकी गाड़ी को बीच में ही रोक दिया गया था।

राहुल गांधी ने किसानों की मौत के लिए प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज को जिम्मेदार बताते हुए उन्होंने कहा, 'मोदीजी किसानों का कर्ज नहीं माफ कर सकते, सही रेट और बोनस नहीं दे सकते, मुआवजा नहीं दे सकते, सिर्फ किसान को गोली दे सकते हैं।

राहुल ने कहा, 'मोदी ने सिर्फ अमीरों का टैक्स माफ किया है।' राहुल ने ट्वीट कर बताया है कि उन्होंने पीड़ित परिवारों से फोन पर बात कर उन्हें सांत्वना दी है। उन्होंने कहा कि वह उनसे मिलने आए हैं और उनकी आवाज को उठाने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता।

जिसके बावजूद राहुल गांधी ने नयागांव इलाके से गुजरने के बाद प्रशासन की एक न मानते हुए बाइक से ही मंदसौर के लिए निकल पड़े थे।

हिरासत में लिए जाने के बाद राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार ने अमीर लोगों का कर्ज माफ किया है, लेकिन किसानों का कर्ज माफ नहीं किया जा रहा है। मोदी किसानों को गोली दे रहे हैं। मैं हिंदुस्तान के नागरिकों से मिलना चाहता हूं। यूपी में भी यही किया गया था।'

हाल ही में फायरिंग के दौरान 5 किसानों की मौत हो गई थी जिसके चलते किसानों ने सड़क पर प्रदर्शन किया। इसके साथ ही डीएम स्वतंत्र सिंह का तबादला भी कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें- MP सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाए: किसान संगठन

हालंकि इससे पहले बीजेपी ने राहुल गांधी को ऐसे समय में वहां न जाने की सलाह दी है।
गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से चली आ रही हिंसा के बाद मंदसौर के अलावा नीमच, रतलाम में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है।
दूसरे जिलों में भी इस हिंसा की आग भड़कती जा रही है। गुस्साए किसानों ने कई जगह गाड़ियों को जलाया और बसों पर पथराव भी किया है।
कलेक्टर की पिटाई
बुधवार को मंदसौर के कलेक्टर स्वतंत्र कुमार जब किसानों को समझाने गए थे। लेकिन वहां कुछ ग्रामीणों ने उनसे हाथापाई की। इसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से उन्हें सुरक्षित गाड़ी में बिठाया गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story