Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ग्वालियर में कचरे के ढेर में मिली दान की हुई आंखें, अस्पताल पर बरपा कहर

संभागायुक्त केके खरे ने नेत्र विभाग के अध्यक्ष डा. यूसी तिवारी सहित तीन को निलंबित किया है।

ग्वालियर में कचरे के ढेर में मिली दान की हुई आंखें, अस्पताल पर बरपा कहर
X

ग्वालियर. मध्य प्रदेश के एक अस्पताल में दान की हुई आंखे कचरे में मिलने का सनसनीखेज़ मामला सामने आया है। स्वास्थ्य सेवाओं में जारी इस लापरवाही को संभाग आयुक्त केके खरे ने गंभीरता से लेते हुए दो चिकित्सकों और एक नर्स को निलंबित कर दिया है। यहा घटना क्षेत्र के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल जेएएच की है।

रेप पीड़ित गर्भवती महिला अस्पताल की टंकी पर चढ़ी, तीन महीने तक हुआ दुष्कर्म

बता दें कि संभागायुक्त केके खरे ने नेत्र विभाग के अध्यक्ष डा. यूसी तिवारी सहित तीन को निलंबित किया है। आयुक्त ने यह कार्रवाई मीडिया में प्रकाशित-प्रसारित उन खबरों की पुष्टि के बाद की है, जिसमें कहा गया था कि दान में दी गई आंखें जया आरोग्य अस्पताल के कचरे में पाई गई थीं, जिसके लिये आरोपी चिकित्सक और नर्स जिम्मेदार थे।
गौरतलब है कि ग्वालियर निवासी किशन गंभीर ने अपनी मां अमृत गंभीर के निधन के बाद उनकी आंखों को दान किया था, मगर गुरुवार को आंखें कचरे में होने का खुलासा होने से वे बेहद दुखी हैं। वहीं इस घटना को संभागायुक्त केके खरे ने गंभीरता से लेते हुए नेत्र विभाग के अध्यक्ष डा. तिवारी, प्रोफेसर डीके शाक्य और एक अन्य कर्मचारी नीति को निलंबित कर दिया है।
किशन का कहना है कि जेएएच के इस रवैये से वह बेहद आहत हैं और अपनी मां का दोबारा श्राद्ध करने जा रहे हैं। उन्होंने तो अपनी मां की आंखें इसलिए दान की थी ताकि किसी दूसरे का जीवन रोशन हो सके और मां की यादें जिंदा रहे मगर ऐसा हो न सका। दान की हुई आंखें अस्पताल के कचरे में मिलने का खुलासा होने के बाद गुरुवार को उन परिवारों के लोगों का तांता लगा रहा जिन्होंने अपने प्रियजन की मरणोपरांत आंखें दान की है। कई तो ऐसे लोग थे जिन्होंने दान की गई आंखें तक वापस मांग डाली।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story