Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

माता-पिता की गंदी भाषा से परेशान होकर घर से भागे तीन नाबालिग, रेलवे पुलिस ने सूझबूझ से भोपाल में उतारा

माता-पिता की भाषा और परिवार का माहौल बच्चों पर बहुत गहरा असर छोड़ता है, कई बार स्थिति यहां तक पहुंच जाती है कि बच्चे माता-पिता को छोड़ने पर उतारू हो जाते हैं और खुद को खतरे में डाल लेते हैं।

माता-पिता की गंदी भाषा से परेशान होकर घर से भागे तीन नाबालिग, रेलवे पुलिस ने सूझबूझ से भोपाल में उतारा
X

भोपाल। माता-पिता की भाषा और परिवार का माहौल बच्चों पर बहुत गहरा असर छोड़ता है, कई बार स्थिति यहां तक पहुंच जाती है कि बच्चे माता-पिता को छोड़ने पर उतारू हो जाते हैं और खुद को खतरे में डाल लेते हैं। ऐसा ही एक मामला गुरूवार को सामने आया है, जब बच्चे माता-पिता की गंदी भाषा से परेशान होकर वह घर से भाग निकले। भोपाल बाल कल्याण समिति के पास पहुंचे इस मामले में तीनों भाई मुरैना से एसी ट्रेन में बैठकर भोपाल तक पहुंच गए। हालांकि, मुरैना में माता-पिता के सचेत होने और भोपाल में परिजनों को जानकारी लगने के कारण बच्चों को रेलवे पुलिस की मदद से भोपाल से आगे जाने से रोक लिया गया।

दरअसल, परिजनों ने बच्चों से संपर्क कर उन्हें भोपाल में रूकने के लिए कहा था, लेकिन बच्चे मान नहीं रहे थे, इसलिए परिजन ने ही रेलवे पुलिस को फोन कर बच्चों को उतारने के लिए कहा। मामले में जब बच्चों से काउंसलिंग की गई तो उन्होंने बताया कि घर में माता-पिता गालियां देकर बात करते हैं, ये उन्हें अच्छा नहीं लगता। बच्चों ने कहा कि उन्होंने पैरेंट्स को भी कहा था कि उन्हें यह बात पसंद नहीं, लेकिन कुछ भी नहीं बदला। यही वजह है कि वह घर से निकल आए। हालांकि समझाइश के बाद बच्चों को अभिभावकों के सुपुर्द कर दिया गया। निवेदिता शर्मा, सदस्य, सीडब्ल्यूसी की सदस्य निवेदिता शर्मा ने बताया बच्चों के साथ-साथ अभिभावकों को भी समझाया गया है और बच्चों को उनके अभिभावकों के सुपुर्द कर दिया गया है।

किशोरी की रट आत्महत्या करना चाहती हूं

बाल कल्याण समिति के पास पहुंचे एक अन्य मामले में यूपी से भोपाल आई 17 वर्षीय किशोरी लगातार आत्महत्या करने की रट लगाए हुए है। दरअसल, किशोरी यूपी के हाथरस क्षेत्र की है और रेलवे चाइल्ड लाइन ने उसे अकेला परेशान देखकर बात की तो किशोरी गोल-मोल जवाब देने लगी। इसके बाद किशोरी को समिति के समक्ष लाया गया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक युवती के पास काफी मात्रा में कैश है और वह अवसादग्रस्त लग रही है। प्रथम दृष्टया देखने पर समिति को लग रहा है कि किशोरी ने इसके पूर्व भी आत्महत्या करने की कोशिश की होगी। दरअसल, किशोरी के हाथों पर काटे जाने के कुछ निशान है। काउंसलिंग के दौरान भी किशोरी लगातार यही रट लगाए रही कि उसे आत्महत्या करनी है। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि किशोरी के अवसादग्रस्त होने की वजह क्या है। किशोरी को हाथरस से आई पुलिस और उसके पिता के साथ वापस भेज दिया गया है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story