Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पाकिस्तान में रह रही मां से मिलने की जताई इच्छा, तो रमजान से मिलने भोपाल पहुंच गई सुषमा

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की दरियादिली के कायल सिर्फ हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के लोग भी थे। सुषमा से जब भी जिसने भी मदद मांगी कभी वह उनके द्वार से खाली हाथ नहीं लौटा।

पाकिस्तान में रह रही मां से मिलने की जताई इच्छा, तो रमजान से मिलने भोपाल पहुंच गई सुषमा

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की दरियादिली के कायल सिर्फ हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के लोग भी थे। सुषमा से जब भी जिसने भी मदद मांगी कभी वह उनके द्वार से खाली हाथ नहीं लौटा। कुछ इसी तरह से मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में अनाथालय में रह रहे पाकिस्तान के रमजान ने जब अपनी मां से मिलने की इच्छा जाहिर की स्वयं सुषमा जी उससे मिलने भोपाल पहुंच गई।

दरअसल, भोपाल के चाइल्ड लाइन में रह रहे कराची पाकिस्तान के रमजान से 22 नवंबर 2015 को सुषमा स्वराज मिलने आईं थीं। इस दौरान उन्होंने कहा था कि वो पड़ोसी देश पाकिस्तान से अपील करेंगी कि वह रमजान को उसकी मां से मिलने दे।

सुषमा स्वराज की इस पहल पर पाकिस्तानी डिप्लोमेट 27 नवंबर 2015 को रमजान से मिलने भोपाल पहुंचे थे। उसके बाद कई पाकिस्तानी एनजीओ पर रमजान को वापस उसकी मां से मिलाने की कवायद शुरू की थी। लेकिन कुछ अड़चनों की वजह से वह नहीं जा पाया।

Bhopal, madhya pradesh, Pakistan, Ramzan, rip sushma swaraj, sushma swaraj,सुषमा ने कहा था कि भारत चाहता है कि रमजान अपनी मां के पास वापस चला जाए। पाकिस्तान को यह मानना पड़ेगा कि रमजान पाकिस्तानी नागरिक है। भारत उसकी मां को इच्छानुसार वीजा देने को तैयार है। रमजान के पिता बांग्लादेश में रहते हैं। फिर उसके पिता के पास भेजने की कवायद शुरू हुई। रमजान ने मना कर दिया। यदि अम्मी के पास कराची नहीं भेज सकते तो बांग्लादेश क्यों भेज रहे हैं। अब भोपाल ही मेरा घर है। मैं यहीं रहूंगा, अपने दोस्तों के बीच।

ऐसे आया था रमजान भोपाल

14 साल का रमजान कराची की मूसा कॉलोनी में मां रजिया बेगम और पिता मोहम्मद ताजउल मुल्क के साथ रहता था। रमजान के पिता मूलतः बांग्लादेशी थे, लेकिन कराची में बस गए थे। यहां उनकी शादी पाकिस्तानी मूल की रजिया से हुई, जिससे दो बच्चे रमजान और जौहरा हुई। बाद में रमजान के पिता का तलाक हो गया और वह रमजान को लेकर बांग्लादेश चला गया। तलाक के बाद रमजान के पिता ने दूसरी शादी कर ली थी। सौतली मां से परेशान होकर वह करीब छह साल पहले बॉर्डर के रास्ते भारत आ गया था। यहां कई महीनों तक भटकता रहा। रमजान अक्टूबर 2013 में बांग्लादेश से दिल्ली और फिर से ट्रेन के जरिए भोपाल पहुंचा था। उसकी सौतली मां ने चोरी का आरोप लगाया था, जिसके बाद वह घर छोड़कर भाग निकला था। तब वह अपनी असली मां को खोजने कराची जाने के लिए निकला और भटककर इंडिया आ गया।

मां ने कहा माहौल अच्छा नहीं

रमजान ने सुषमा जी के सामने कहा कि उसकी मां से बातचीत हो रही है। मां ने बताया कि उन्हें किसी ने कहा कि भारत का माहौल ठीक नहीं है। इसलिए वह लोग उन्हें यहां आने नहीं दे रहे। रमजान ने बताया कि वह रोज मां से बातचीत करके यह बता रहा है कि यहां सब कुछ अच्छा है वे एक बार यहां आ जाए और साथ ले जाएं।

Next Story

Latest

View All

वायरल

View All

गैलरी

View All
Share it
Top