Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ की अफसरों को दो टूक, कहा- अब ऐसा नहीं चलेगा जो चल रहा है..

नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ ने वरिष्ठ अफसरों से कहा कि वे यह नहीं चाहते कि जो चल रहा है, वही चलने दें या ऐसे ही चलता है। इस तरह का दृष्टिकोण अब नहीं चलेगा। नए नजरिए व नयए दृष्टिकोण के साथ व्यवस्था में परिवर्तन लाना होगा।

नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ की अफसरों को दो टूक, कहा- अब ऐसा नहीं चलेगा जो चल रहा है..
X

नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ ने वरिष्ठ अफसरों से कहा कि वे यह नहीं चाहते कि जो चल रहा है, वही चलने दें या ऐसे ही चलता है। इस तरह का दृष्टिकोण अब नहीं चलेगा। नए नजरिए व नए दृष्टिकोण के साथ व्यवस्था में परिवर्तन लाना होगा।

इस मौके पर उन्होंने मुख्य सचिव बीपी सिंह को कांग्रेस पार्टी का वचन पत्र भी सौंपा। उनसे कहा कि यह जनता की अपेक्षाओं का दस्तावेज है। इसे हर वर्ग ने मिलकर तैयार किया है। नए संसाधनों को तलाशने के लिए नई सोच अपनाना होगी।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पद व गोपनीयता की शपथ लेने के बाद पहली बार मंत्रालय भवन पहुंचें थे। इस मौके पर उन्होंने सबसे पहले अफसरों को परिचय संबोधन दिया। उन्होंने कहा कि सबसे पहले फिजूल खर्ची को रोकना होगा। जनता का पैसा अर्थपूर्ण तरीके से खर्च करना होगा क्योंकि हम सब जनता के पैसों के प्रति जवाबदेह हैं। मुख्यमंत्री ने वचन पत्र पर आधारित योजनाएं बनाने को कहा।
उन्होंने अफसरों से अपेक्षा की कि वे सबसे पहले अपने आप में परिवर्तन लाएं। नए दृष्टिकोण से चीजों को देखें, परखें। उन्‍होंने कहा कि सुधार और परिवर्तन में फर्क है। अचीवमेंट और फुलफिलमेंट में फर्क है। फुलफिलमेंट ज्यादा महत्वपूर्ण है। अफसरों व सरकार का लक्ष्य एक हाेना चाहिए।
व्यवस्‍था में परिवर्तन जरूरी
मुख्यमंत्री ने अफसरों से कहा कि जनता ने बड़ी अपेक्षाओं के साथ नई सरकार चुनी है। लोगों ने सिस्टम पर भरोसा किया है। लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए व्यवस्‍था में परिवर्तन करना जरूरी है। नए नजरिए, नए दृष्टिकोण और रचनात्मकता के साथ परिवर्तन लाना होगा। सिस्टम कई सालों से एक जैसा चल रहा है, जबकि दुनिया बदल रही है, जो पुरानी व्यवस्थाएं ठीक नहीं है, उन्हें जारी रखना समय के अनुरूप नहीं है।
नई पीढ़ी पर ध्यान दें
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि युवाओं के बारे में सोचना होगा। नई पीढ़ी की जरूरतों को समझना होगा , क्योंकि वे ही प्रदेश का निर्माण करेंगे। प्रदेश की रक्षा करेंगे। रोजगार और बेरोजगार के बीच की खाई भी चुनौती है। इसके लिए उन्होंने अधिकरियों से अपनी विचार प्रक्रिया में परिवर्तन लाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि यह सोचना होगा कि निवेश कैसे आए। सिर्फ नीतियों और मांगने से निवेश नहीं आता। निवेश को आकर्षित करना पड़ेगा।
जो निगम मंडल काम के नहीं, उन्हें बंद किया जाए
मुख्यमंत्री ने यह कहा फिजूलखर्ची हर हाल में रोकना होगा। कई निगम मंडल ऐसे हैं, जिनका कोई खास उपयोग नहीं है। उन्हें ऐसे सजावटी निगम मंडल नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि कई बार योजनाएं अच्छी होती हैं लेकिन उनका डिलीवरी सिस्टम खराब होता है, इसलिए वे असफल हो जाती हैं। ग्राम पंचायत से लेकर मंत्रालय तक परिवर्तन लाना होगा। कौन से ऐसे विभाग हैं, जिन्हें सक्षम बनाने की जरूरत है और कौन से विभाग हैं, जिन्हें बंद करना उचित होगा। इस दिशा में भी सोचें। कई निगम मंडल सजावटी बन गये हैं। कहां फिजूल खर्ची हो रही है, यह देखना होगा। यह काम प्रशासनिक टीम की क्षमता और राजनैतिक इच्छाशक्ति से किया जा सकता है।
विभागों को मजबूत बनाए
मुख्यमंत्री ने अफसरों से कहा कि वे अपने विभागों को मजबूत बनाए। केवल मुख्यमंत्री का कार्यालय ही शक्तिशाली नहीं हो। शक्ति का विकेन्द्रीकरण जरूरी है। इसलिए हर विभाग सक्षम और जनता के प्रति जवाबदेह हो। ऐसी व्यवस्था बनाए, जो पूरी तरह से जवाबदेह हो।
हर हाल में करें भ्रष्टाचार पर नियंत्रण
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सोचें कि कैसे भ्रष्टाचार पर रोक लग सकती है। भ्रष्टाचार सिस्टमैटिक हो गया है। गांव-गांव में फैल गया है और सिस्टम का ही अंग बन गया है। इसी के कारण राजनीति में गिरावट आई है। भ्रष्टाचार को हर हाल में नियंत्रित करना होगा। उन्होंने इसके लिए सभी अधिकारियों से सहयोग की अपेक्षा की।
उन्होंने कहा कि अधिकारियों को सक्षम बनाया जाएगा ताकि वे भ्रष्टाचार को प्रभावी तरीके से रोकें। बाधा डालने और रोकने का सिस्टम ठीक नहीं है। अपने अधीनस्थ स्टाफ को हमेशा प्रेरित करते रहें। सबके सहयोग से ही यह संभव होगा। उन्होंने कहा कि सभी विभागों का परिचयात्मक प्रस्तुतिकरण शुरू होगा, फिर जरूरत अनुसार विस्‍तृत समीक्षा होगी।
एनेक्सी भवन का किया शुभारंभ
इससे पहले उन्होंने मंत्रालय के एनेक्सी भवन का लोकार्पण किया। इस मौके पर बड़ी संख्या में मंत्रालय के अफसर व कर्मचारी मौजूद थे। एनेक्स्ाी के शुभारंभ के मौके का साक्षी बनने के लिए मंत्रालय के कर्मचारी हाथ में गुलदस्ता लेकर आए हुए थे। मुख्यमंत्री ने मंत्रोच्चार के बीच पूजन अर्चन किया इसके बाद नए भवन का लोकार्पण किया।
इस मौके पर अफसरों ने नए मुख्यमंत्री को गुलदस्ते देकर स्वागत किया। मुख्य सचिव बीपी सिंह के अलावा बड़ी संख्या में वरिष्ठ आईएएस अफसर मौजूद थे। लोकार्पण कार्यक्रम के लिए नगरीय प्रशासव व आवास विभाग के अफसरों को जिम्मेदारी दी गई थी। इसी के साथ सामान्य प्रशासन विभाग के अफसरों ने तैयारियों से लेकर शपथग्रहण कार्यक्रम तक का इंतजाम किया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story