Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नर्मदा जलस्तर खतरे के निशान से नीचे पहुंचा, प्रशासन ने ली राहत की सांस, नेमावर कंट्रोल रूम का SDM ने किया निरीक्षण

पिछले 4 दिनों से मां नर्मदा के सभी तटों पर बाढ़ के हालात निर्मित हो रहे थे खतरे के निशान 885 से लेकर मां नर्मदा का जलस्तर 888 से ऊपर तक पहुंच गया था।

नर्मदा जलस्तर खतरे के निशान से नीचे पहुंचा, प्रशासन ने ली राहत की सांस, नेमावर कंट्रोल रूम का SDM ने किया निरीक्षण

खातेगांव। पिछले 4 दिनों से मां नर्मदा के सभी तटों पर बाढ़ के हालात निर्मित हो रहे थे खतरे के निशान 885 से लेकर मां नर्मदा का जलस्तर 888 से ऊपर तक पहुंच गया था। गुरुवार को सुबह जलस्तर 886 था गुरुवार शाम को 6 बजे 884 के करीब जलस्तर था लगातार जलस्तर में कमी आने से प्रशासन ने भी राहत की सांस ली। लेकिन जिलाधीश श्रीकांत पांडे के द्वारा दिए गए दिशा-निर्देश में अधिकारी कर्मचारी नर्मदा के घाटों पर सेवा में जुटे हैं नेमावर में बनाए गए कंट्रोल रूम में एसडीएम शोभाराम सोलंकी ने पहुंचकर निरीक्षण किया और आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए।

टीम ने नर्मदा नदी में की सर्चिंग

नर्मदा नदी में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए प्रशासन के द्वारा एसडीआरएफ की टीम नेमावर पहुंची टीम ने नेमावर से बिजलगांव तक नर्मदा नदी में सर्चिंग की और देखा कि कहीं किसी टापू या अन्य स्थानों पर ग्रामीण तो नहीं है नदी पर सर्चिंग की।


ग्रामीणों के स्वास्थ्य का रखा जा रहा ध्यान

तहसीलदार अलका एक्का ने बताया कि ग्राम चीचली में स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची जहां ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण किया दवा गोली वितरित की गई समाचार लिखे जाने तक नर्मदा का जलस्तर लगातार कम हो रहा था।

निचली बस्ती के नागरिक अभी कैंप में है सुरक्षित

नेमावर की निचली बस्ती के नागरिकों को शासन प्रशासन के द्वारा सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जहां लगातार नगर परिषद केटीएम नागरिकों को सभी आवश्यक सामग्रियां उपलब्ध करा रही है समय पर भोजन इत्यादि वितरित किया जा रहा है अभी सभी लोगों को शासकीय भवनों में ही रखा है यदि जबलपुर से छोड़ा गया पानी कल तक नेमावर पहुंचेगा तो संभावना है एक 2 फीट पानी और बढ़ सकता है प्रशासन पूर्ण रूप से सर पर है और चारों ओर नजर रखे हुए हैं।


एक बार फिर बढ़ सकता है जलस्तर

मिली जानकारी के अनुसार ज़बलपुर बरगी डैम के ज़बलपुर सहित जल भराव क्षेत्र में हो रही बारिश के चलते डैम के 15 गेट फिर से खोले गए हैं इन गेट की ऊंचाई पौने 3 मीटर के लगभग रखी गई है। इन गेटों से 205038 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

Next Story
Share it
Top