Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मप्र विधानसभा चुनाव के चर्चित मुकाबले / क्या रोचक है? जानें

मप्र विधानसभा चुनाव के लिए आज पांच करोड़ 4 लाख 33 हजार मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों के लिए 65,367 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। मतदान के लिए 3 लाख 782 मतदान कर्मी व 1.80 लाख सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं।

मप्र विधानसभा चुनाव के चर्चित मुकाबले / क्या रोचक है? जानें
X

मप्र विधानसभा चुनाव के लिए आज पांच करोड़ 4 लाख 33 हजार मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों के लिए 65,367 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। मतदान के लिए 3 लाख 782 मतदान कर्मी व 1.80 लाख सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं।

इस चुनाव में कुल 2899 प्रत्याशी मैदान में हैं। इसमें 2644 पुरूष व 250 महिलाएं हैं। थर्ड जेंडर के 5 प्रत्याशी भी अपना भाग्य आजमा रहे हैं। प्रत्याशियों में कुल 1794 सामान्य केटेगरी, 591 अनुसूचित जाति व 514 अनुसूचित जनजाति के प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

इसे भी पढ़ें- MP Election : भिंड में पोलिंग बूथ पर फायरिंग की खबर, मतदान रूका

विधानसभा सीट: भोपाल दक्षिण पश्चिम

भाजपा प्रत्याशी - उमाशंकर गुप्ता

कांग्रेस प्रत्याशी - पीसी शर्मा

कुल प्रत्याशी - 18

निर्दलीय - 5

प्रमुख मुद्दे-

- स्मार्ट सिटी के लिए मकान टूटने के चलते सरकारी कर्मचारियों के आवास की समस्या।

- झुग्गी बस्तियों में सीवेज की समस्या।

- सरकार द्वारा 15 वर्षों के कार्यकाल की उपलब्धियां।

- युवाओं के लिए रोजगार की समस्या का मुद्दा।

इसे भी पढ़ें- मध्य प्रदेश चुनाव / 230 सीटों पर वोटिंग जारी, 45 % हुई वोटिंग

क्या रोचक है-

इस क्षेत्र में मप्र सरकार के केबिनेट मंत्री उमाशंकर गुप्ता भाजपा के टिकट से लगातार चौथी बार मैदान में हैं। कांग्रेस ने पूर्व विधायक पीसी शर्मा को गुप्ता के मुकाबले मैदान में उतारकर मुकाबले को टक्कर का बना दिया है। यहां आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक और आप की तरफ से सीएम पद के दावेदार घोषित किए गए आलोक अग्रवाल मैदान में हैं।

संक्षिप्त विवरण-

राजधानी की दक्षिण पश्चिम विधानसभा में इस बार कांटे का मुकाबला देखने को मिल रहा है। यहां कुल 18 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें से 5 निर्दलीय उम्मीदवार शामिल हैं। दक्षिण पश्चिम विधानसभा कर्मचारी बहुल होने से कहा जाता है कि इस विधानसभा का निर्णय कर्मचारी ही करते हैं। इनमें भी पुलिस कर्मचारियों की संख्या अधिक है। यहां स्मार्ट सिटी के लिए बड़ी संख्या में सरकारी कर्मचारियों के आवास खाली कराकर सरकारी मकान तोड़े गए हैं। इसके चलते कर्मचारियों के वैकल्पिक आवास की व्यवस्था का मुद्दा भी यहां प्रमुख है।

विधानसभा क्षेत्र: जबलपुर पश्चिम

कांग्रेस प्रत्याशी - तरुण भनोट

भाजपा प्रत्याशी - हरिंदरजीत सिंह बब्बू

कुल प्रत्याशी - 14

निर्दलीय प्रत्याशी - 4

प्रमुख मुद्दे -

- हाथीताल कालोनी के आसपास की चार-पांच कालोनियों में सीवेज की समस्या।

- मदन महल पहाड़ी से हटाए गए गरीबों को आवास दिए जाने का मुद्दा।

- ब्राह्मण और सिख वोटों के ध्रुवीकरण का मुद्दा।

- नर्मदा तटों के विकास का मुद्दा।

रोचक क्या -

यहां भाजपा ने अपने एक मात्र सिख प्रत्याशी हरिंदरजीत सिंह बब्बू को मैदान में उतारा है। बब्बू यहां पूर्व में भी विधायक रह चुके हैं। कांग्रेस ने वर्तमान विधायक तरुण भनोट को दूसरी बार टिकट थमाया है। तरुण भनोट, पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस नेता चंद्रकुमार भनोट के पुत्र हैं और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के कट्टर समर्थक माने जाते हैं।

संक्षिप्त विवरण

इस सीट पर सिख और ब्राह्मण समाज के वोटों की संख्या लगभग बराबर है। जबलपुर पश्चिम सीट का फैसला भी यही दो समाज करते हैं। जबलपुर का प्रमुख धार्मिक स्थल ग्वारीघाट इसी विधानसभा में होने से ग्वारीघाट के नर्मदा तटों के विकास को लेकर भी जनता लगातार मांग करती रहती है। पिछले दो चुनावों में एक बार भाजपा के बब्बू और एक बार कांग्रेस के तरुण भनोट यहां से जीत चुके हैं। इस बार जबलपुर पश्चिम विधानसभा सीट में भाजपा - कांग्रेस के बीच सीधा और बेहद कांटे का मुकाबला माना जा रहा है। भाजपा की तरफ से संघ और संगठन ने कमान संभाल रखी है, तो कांग्रेस की तरफ से युवाओं की बड़ी फौज तरुण भनोट के साथ है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story